Friday , April 10 2020
Breaking News

सीएए विरोध : छावनी में तब्दील हुई उत्तर-पूर्वी दिल्ली, सीआरपीएफ की आठ कंपनी तैनात

Share this

नयी दिल्ली. उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाके में सीएए के विरोध के दौरान हुए हिंसक झड़प के बाद क्षेत्र में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीआरपीएफ की आठ कंपनियां तैनात की गयी हैं. इसके अलावा, रैपिड एक्शन फोर्स की दो कंपनी और वीमैन सिक्योरिटी पर्सनल की एक कंपनी की भी तैनाती की गयी है.

इस बीच, दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने कहा है कि उद्योग भवन, पटेल चौक, सेंट्रल सेक्रेटेरियट और जनपथ मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री और एक्जिट गेट को बंद कर दिया गया है. हालांकि, सेंट्रल सेक्रेटेरियट पर इंटरचेंज फैसिलिटी की सुविधा खुली रहेगी.

वहीं, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि दिल्ली में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में कानून-व्यवस्था को बहाल करना हमारी पहली प्राथमिकता है.

रेड्डी ने कहा कि गृह मंत्रालय ने पुलिसकर्मियों की हत्या करने वालों, पत्थरबाजों और संपत्तियों में आग लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए दिल्ली पुलिस को आदेश दिया है. उन्होंने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अमेरिकी राष्ट्रपति के आगमन को लेकर हिंसा फैलायी गयी है. मैं इसे सिरे से खारिज करता है. भारत सरकार हिंसा को कभी भी बर्दाश्त नहीं करेगी. हम जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे. गृह मंत्रालय स्थिति पर नजर बनाये हुए है.

दरअसल, उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में दो गुटों के बीच झड़प हो गयी. प्रदर्शनकारियों ने कम से कम दो घरों में आग लगा दी और कई वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया. इलाकों में तनाव की स्‍थिति बन गयी है. स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे. इस बीच मौजपुर में एक हेड कॉन्‍स्‍टेबल की मौत हो गयी है  और एक DCP घायल हो गये हैं.

इन इलाकों में सोमवार को लगातार दूसरे दिन सीएए समर्थक और विरोधी समूहों के बीच झड़पें हुईं. प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े.

पुलिस ने समूहों को शांत कराने के भी प्रयास किए. अधिकारियों के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने इलाके में लगी आग बुझाते समय दमकल की एक गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाया. दिल्ली मेट्रो ने इलाके में तनाव के बीच जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिये.

डीएमआरसी ने ट्वीट किया, जाफराबाद तथा मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश एवं निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी. जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार पिछले 24 घंटों से बंद हैं. संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प शुरू हो गई थी.

दिल्ली के कई अन्य इलाकों में भी ऐसे ही धरने शुरू हो गए हैं. मौजपुर में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक सभा बुलाई थी जिसमें मांग की गयी थी कि पुलिस तीन दिन के भीतर सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों को हटाए, इसके तुरंत बाद दो समूहों के सदस्यों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिसके चलते पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. 

Share this

Check Also

पीएम मोदी के दो ट्विट से मची हलचल, कहा- यह मुझे विवादों में घसीटने की खुराफात है

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुछ देर पहले एक के बाद एक दो ट्विट ...