Tuesday , January 28 2020
Breaking News

16 दिसंबर से सभी बैंको में न‍ि: शुल्क शुरू हो जाएगी NEFT

Share this

नई द‍िल्ली. NEFT (नेशनल इलेक्ट्रोनिक फंड ट्रांसफर) की सुविधा आगामी 16 दिसंबर से सभी बैंकों में 24 घंटे के ल‍िए न‍ि: शुल्क शुरू कर दी जाएगी अर्थात् इसके लिए बैंक ग्राहकों को किसी तरह का कोई शुल्क नहीं देना होगा.

NEFT सुविधा अभी सुबह आठ बजे से शाम सात बजे तक रहती है. महीने के पहले और तीसरे शनिवार को इसका वक्त सुबह आठ बजे से दोपहर एक बजे तक रहता है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने ऐसा करने का निर्देश बैंकों को दिया है.

डिजिटलबैंकिंगकोबढ़ावादेनाहै

आरबीआई ने देश भर में डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया है. इसके साथ ही आरबीआई ने फास्टैग का भुगतान करने के लिए मोबाइल वॉलेट, सभी तरह के कार्ड्स और यूपीआई से इसे लिंक करने के लिए कहा है ताकि इसका इस्तेमाल पार्किंग, पेट्रोल पंप पर भी किया जा सके.

60 फीसदीकीदरसेबढ़रहाडिजिटलट्रांजेक्शन

आरबीआई ने कहा कि रिटेल डिजिटल ट्रांजेक्शन सालाना 60 फीसदी की दर से बढ़ रहा है. अक्तूबर 2018 से सितंबर 2019 के बीच यह औसतन 2846 करोड़ रुपये रहा है. इस दौरान कुल 302 लाख करोड़ रुपये के ट्रांजेक्शन हुए हैं. एनईएफटी और यूपीआई के जरिए 1126 करोड़ ट्रांजेक्शन हुए. इसमें यूपीआई की ग्रोथ रेट 263 फीसदी है. वहीं एनईएफटी का ग्रोथ रेट 20 फीसदी रहा.

24 घंटेकरपाएंगे NEFT केजरियेलेनदेन

ग्राहक को दिसंबर से 24 घंटे एनईएफटी के जरिये लेन-देन की सुविधा मिलेगी. मौजूदा समय में ग्राहक इस सेवा का लाभ महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर हर वर्किंग डे पर उठा रहे हैं. यह सुबह आठ बजे से लेकर शाम 7:45 बजे तक उपलब्ध रहती है.

एकजुलाईसेमुफ्तहुईथी NEFT सुविधा

छह जून को हुई आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक में आरबीआई ने आम जनता को बड़ा तोहफा देते हुए रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) और नेशनल इलेक्ट्रिक फंड ट्रांसफर के जरिये होने वाला लेन-देन निशुल्क कर दिया था. यह नियम एक जुलाई से लागू हो चुका था.

क्याहै NEFT ?

NEFT का मतलब है नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर. इंटरनेट के जरिये दो लाख रुपये तक के लेन-देन के लिए एनईएफटी का इस्तेमाल किया जाता है. इसके जरिये किसी भी शाखा के किसी भी बैंक खाते से किसी भी शाखा के बैंक खाते को पैसा भेजा जा सकता है.

बस इकलौती शर्त ये है कि भेजने वाले और पैसा पाने वाले, दोनों के पास इंटरनेट बैंकिंग सेवा का होना जरूरी है. अगर दोनों खाते एक ही बैंक के हैं तो सामान्य स्थिति में कुछ सेकेंड्स के अंदर पैसा ट्रांसफर हो सकता है.

Share this

Check Also

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने रद्द किया अब्दुल्ला आजम का निर्वाचन, चुनाव लडऩे के समय 25 साल के नहीं थे

प्रयागराज (इलाहाबाद). उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी (एसपी) के नेता आजम ...