Saturday , April 13 2024
Breaking News

देशद्रोह की चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी, कन्हैया और उमर समेत कई और को पड़ सकती है भारी

Share this

नई दिल्ली। जोश में होश गंवाने और अपने ही देश के खिलाफ नारे लगाने का मामला अब फिर से जोर पकड़ने जा रहा है। दरअसल जेएनयू (JNU) में देशद्रोह के कथित मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल जल्द ही विशेष कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने वाली है। सूत्रों के मुताबिक चार्जशीट में जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद सहित कुछ कश्मीरी नौजवानों का नाम भी शामिल किया जा रहा है।

गौरतलब है कि स्पेशल सेल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिन आठ लोगों को आरोपी बनाया गया है, उनके खिलाफ पुलिस के पास पुख्ता सबूत हैं। इनमें से दो जेएनयू छात्र, दो जामिया के छात्र, एक एएमयू छात्र, एक मुरादनगर का रहने वाला डॉक्टर और दो अन्य छात्र शामिल हैं। इस चार्जशीट में 32 ऐसे छात्रों के भी नाम डाले गए हैं, जिनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं।

इस चार्जशीट में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को मुख्य आरोपी बनाए जाने की तैयारी है। लेकिन कानूनी विशेषज्ञों से राय मशविरा लेने के बाद कुछ अन्य नामों को भी आरोपी की सूची में शामिल किया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो इस ड्राफ्ट चार्जशीट को सरकारी अभियोजक के पास देखने के लिए भेजा गया है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही इसे कोर्ट में दाखिल किया जाएगा।

ज्ञात हो कि इस मामले में जो चार्जशीट दाखिल की जाएगी, उसमें वीडियो व फोन की लोकेशन को सबूत के तौर पर रखा गया है। दरअसल इस मामले को लेकर जो वीडियो पुलिस ने जब्त किए थे और जो अन्य वीडियो अलग-अलग श्रोतों से हासिल किए थे, उनकी फोरेंसिक जांच कराई जा चुकी है।

बताया जाता है कि इस मामले में आरोपियों के फेसबुक प्रोफाइल को खंगाला गया जहां से कई सबूत उनके हाथ लगे। इनमें से एक आरोपी ने उस दिन हुई नारेबाजी की वीडियो अपने फेसबुक पर डाल रखी थी। इन आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उन्हें यहां ज्यादा से ज्यादा छात्रों को लेकर आने के लिए कहा गया था। बता दें कि 9 फरवरी 2016 में जेएनयू कैंपस में अफजल गुरु की फांसी के विरोध में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इसमें देशविरोधी नारे लगे थे।

Share this
Translate »