Saturday , September 18 2021
Breaking News

राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएगें- डीजी होमगार्ड

Share this

लखनऊ।सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ अफसरों को कितना भी नैतिकता का पाठ पढ़ा दें लेकिन यूपी के बेलगाम अफसर योगी सरकार की फजीहत कराने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। पिछले दिनों बरेली के डीएम ने अपने जज्बातों को शब्दों में पिरोकर सोशल मीडिया पर बयां किया तो सूबे की सियासत में भूचाल आ गया था और अब एक नया मामला सामने आया है। योगी सरकार में डीजी होमगार्ड पद पर तैनात सूर्यकुमार शुक्ला ने अपने बड़बोलेपन से सरकार के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है। एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक कार्यक्रम में आईपीएस शुक्ला सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ जाकर राम मंदिर बनाने का शपथ लेते नजर आ रहे हैं।

आईपीएस सूर्यकुमार शुक्ला का जो वीडियो वायरल हुआ है वह लखनऊ विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय समग्र विचार मंच के बैनर तले आयोजित कार्यक्रम का है। इस कार्यक्रम में सूर्यकुमार शुक्ला भी शामिल हुए थे और उन्होंने ‘राम मंदिर निर्माण समस्या एवं समाधान’ पर अपना विचार रखा। वीडियो में कुछ लोग राम मंदिर बनाने के लिए शपथ ले रहे हैं, जिसमें एक मुस्लिम कार सेवक मंच के अध्यक्ष आजम खान हैं तो दूसरे लाल घेरे में खड़े आईपीएस अधिकारी सूर्यकुमार शुक्ला हैं। सूर्यकुमार शुक्ला यूपी कैडर के 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी है और इस वक्त डीजी होमगार्ड के पद पर तैनात हैं। खुले मंच से आईपीएस शुक्ला सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करते हुए शपथ ले रहे हैं कि हम हर हाल में राम मंदिर बनाकर रहेंगे। जब जिम्मेदार पदों पर तैनात आलाधिकारी सुप्रीम कोर्ट की अवहेलना करेंगे तो और लोगों से क्या उम्मीद की जा सकती है। यहां सवाल उठता है की सार्वजनिक स्थलों पर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की खुलेआम अवहेलना करने पर क्या प्रदेश में शांति व्यवस्था बन पाएगी।

फिलहाल सीनियर आईपीएस अफसर सूर्य कुमार शुक्ला के इस नए कारनामे के बाद सवाल उठ रहा है कि आखिर नौकरशाह योगी सरकार पर मुखर क्यों हो रहे है। उन्हें आखिर अपनी जिम्मेदारी का एहसास क्यों नहीं है। वहीं इस मामले में विपक्ष बीजेपी सरकार पर हमलावर हो गया है। उनका आरोप है कि बीजेपी सरकार में अफसर बेलगाम हो गए हैं। शांति व्यवस्था बनाये रखने वाले ही कानून की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

मैने ऐसी कोई बात नहीं कही। मैंने कहा था कि माननीय उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि हिंदू-मुस्लिम मिलकर अगर कोई मंदिर निर्माण करते हैं तो ये अच्छी बात है लेकिन समाज की शांति-व्यवस्था ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसलिए सब लोग मिलजुलकर कोई निर्णय लेते है तो इस दिशा में प्रयास कर सकते हैं। कार्यक्रम में आजम और रिजवी जी आये थे तो उन लोगों ने मंदिर निर्माण के समर्थन में अपनी बातें कही थी। मैंने कहा कि इस मौके पर मेरा भाषण देना उचित नहीं है क्योंकि मैं अभी सर्विस में हूं, उसमें मेरी अपनी सीमा है, लेकिन मेरी सलाह है कि आप लोग मिलजुलकर कुछ करते हो तो अच्छी बात है। मेरी बात को दूसरी तरह से पेश किया गया है

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »