Tuesday , August 16 2022
Breaking News

उम्मीदवार को पत्नी और आश्रितों की संपत्ति का ब्यौरा देना जरूरी: सुप्रीम कोर्ट

Share this

नई दिल्ली।  चुनाव सुधार की दृष्टि से सुप्रीम कोर्ट ने एक बेहद अहम फैसला सुनाते हुए चुनाव नामांकन पत्र में उम्मीदवार के अलावा उसकी पत्नी एवं आश्रितों के आय के स्रोतों तथा संपत्तियों की जानकारी साझा करना अनिवार्य बना दिया है।

गैर-सरकारी संगठन लोक प्रहरी की जनहित याचिका स्वीकार करते हुए न्यायमूर्ति जस्ती चेलमेश्वर एवं न्यायमूर्ति एस.ए. अब्दुल नजीर की पीठ ने यह फैसला सुनाया। पीठ की ओर से फैसला सुनाते हुए न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि याचिका स्वीकार की जाती है, लेकिन जिन अनुरोध के लिए कानून में संशोधन की आवश्यकता होगी, उसे मंजूर नहीं किया जा सकता, क्योंकि कानून में संशोधन का काम संसद का है।
गौरतलब है कि लोक प्रहरी ने माननीयों को आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति अर्जित करने से रोकने के लिए कदम उठाए जाने की याचिका में मांग की थी। याचिकाकर्त्ता की मांग थी कि उम्मीदवारों के अलावा उनकी पत्नियों और आश्रितों की आय के स्रोतों एवं संपत्तियों की जानकारी नामांकन पत्र में उपलब्ध कराने को अनिवार्य बनाया जाए। न्यायालय ने याचिका की विस्तृत सुनवाई के बाद गत वर्ष 12 सितंबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था।
वहीं इस सुनवाई में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने हलफनामा दायर करके शीर्ष अदालत को अवगत कराया था कि आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक की संपत्ति अर्जित करने वाले कुछ सांसदों एवं विधायकों के खिलाफ जांच जारी है। याचिकाकर्त्ता ने सरकारी योजनाओं में ठेका लेने वाले या सरकारी कंपनियों से आर्थिक तौर पर जुड़े माननीयों को अयोग्य ठहराये जाने संबंधी कानून संशोधन के लिए संसद को निर्देश देने का भी आग्रह न्यायालय से किया था। न्यायालय ने इसे संसद पर छोड़ दिया है।

 

Share this
Translate »