Friday , January 28 2022
Breaking News

भारत में डोपिंग के मामले बढ़े, दुनिया के टॉप-3 देशों में शामिल हुआ

Share this

नई दिल्ली. भारत दुनिया के उन देशों की सूची में बना हुआ है, जहां डोपिंग के सर्वाधिक मामले पाए गए हैं और 2019 में डोपिंगरोधी नियमों का उल्लंघन करने के मामलों के आधार पर वह तीसरे स्थान पर रहा. वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2019 में डोपिंगरोधी नियमों के उल्लंघन के 152 मामले (विश्व के कुल मामलों का 17 प्रतिशत) पाए गए, जिसमें डोपिंग के सर्वाधिक आरोपी बॉडी बिल्डिंग (57) में पाए गए.

डोपिंगरोधी नियमों का उल्लंघन करने वाले ओलंपिक खेलों में भारोत्तोलन 25 मामलों के साथ सबसे आगे है. उसके बाद एथलेटिक्स (20) और कुश्ती (10) का नंबर आता है. मुक्केबाजी और जूडो में चार-चार ऐसे मामले पाए गए. 4 क्रिकेटरों ने भी 2019 में डोपिंगरोधी नियमों का उल्लंघन किया था. भारत इस सूची में केवल रूस (167) और इटली (157) से पीछे है. ब्राजील (78) चौथे और ईरान (70) पांचवें स्थान पर है

अंतरराष्ट्रीय डोपिंग रोधी नियमों का पालन नहीं करने के कारण रूस टोक्यो ओलंपिक में अपनी राष्ट्रीय टीम को नहीं उतार पाया था और उसके खिलाड़ियों ने रूसी ओलंपिक समिति के तहत हिस्सा लिया था. भारत 2018 में डोपिंगरोधी नियमों के उल्लंघन के मामलों चौथे, जबकि 2017 में सातवें स्थान पर था. भारत में 2017 में 57 जबकि 2018 में 107 मामले पाए गए थे. वह 2018 में रूस (144), इटली (132) और फ्रांस (114) के बाद चौथे स्थान पर था. उस रिपोर्ट में डोपिंगरोधी नियमों का उल्लंघन करने वाले सर्वाधिक खिलाड़ी भारोत्तोलन (22) से थे और उसके बाद एथलेटिक्स (16) का नंबर था.

2019 में वाडा ने दुनियाभर से कुल 278,047 सैंपल एकत्रित किए. इसमें से लगभग एक प्रतिशत 2701 सैंपल में गड़बड़ी पाई गई. इसमें से 1535 सैंपल प्रतिबंध के दायरे में पाए गए. ओलिंपक खेलों की बात करें तो सबसे अधिक 227 सैंपल (18 फीसदी) एथलेटिक्स के फेल रहे. ओवरऑल बॉडी बिल्डिंग के सबसे अधिक 272 खिलाड़ी प्रतिबंधित हुए.

Share this
Translate »