Sunday , September 25 2022
Breaking News

यह जनता है जो खुश तो बेड़ापार, और नाराज हुई तो बंटाधार: कल्याण सिंह

Share this

लखनऊ। किसी वक्त में भाजपा के कद्दावर नेताओं में से एक और सियासत एवं जनता की नब्ज की बखूबी जानकारी रखने वाले राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने उपचुनाव में मिली बीजेपी की हार पर पार्टी की नीतियों पर जमकर निशाना साधा। और एक बेहद सटीक और भाजपा को नसीहत देने वाली बात कही है कि यह जनता है जो यदि खुश है तो बेड़ापार और नाराज हुई तो बंटाधार हो जाता है।

इतना ही नही उन्होंने कहा कि  राजनीति में जब दूसरों को सम्मान देना बंद कर दिया जाता है तो पार्टी का सत्यानाश हो जाता है। उन्होंने कहा कि अहंकार आने के बाद बर्बादी शुरू हो जाती है। यह जनता है जो यदि खुश है तो बेड़ापार और नाराज हुई तो बंटाधार हो जाता है।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि दुनिया में अधिकार मिलते नहीं बल्कि छीने जाते हैं। थप्पड़ मारकर अधिकार लेना पड़ता है। लोधी समाज को शिक्षा, संगठन और संघर्ष पर ध्यान देना चाहिए। राजस्थान में विश्वविद्यालयों में बेटियों को अधिक मेडल मिलते हैं। बेटियां आंगन की मणि होती हैं। इसलिए समाज के लोगों को अपनी बेटियों को आधुनिक शिक्षा देनी चाहिए।

गौरतलब है कि राजस्थान के राज्यपाल और यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह शुक्रवार को लोधी समाज के होली मिलन कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए लखनऊ पहुंचे। यहां उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव निर्धारित समय से पहले हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों के साथ लोकसभा के चुनाव भी हो सकते हैं। कल्याण सिंह को कट्टरपंथी हिंदुत्ववादी के रूप में जाना जाता है। वह दो बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और उन्हें 26 अगस्त, 2014 को राजस्थान का राज्यपाल नियुक्त किया गया। जबकि वर्तमान में वह राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल हैं।

 

Share this
Translate »