Monday , October 18 2021
Breaking News

पीड़िता के पिता की संदिग्ध मौत से बढ़ा बवाल, पुलिस की भूमिका पर उठे तमाम सवाल

Share this

लखनऊ। देश के सबसे अहम और बड़े सूबे में मौजूदा वक्त में भाजपा और उसकी सरकार दोनों के लिए रोज नई दिक्कत का पैदा होना अब केन्द्रीय नेतृत्व और संघ दोनों के माथे पर बल लाने लगा है। वहीं जिस कानून व्यवस्था के नाम पर प्रदेश में भाजपा प्रचण्ड बहुमत पाई थी वो ही अब खुद उसकी गले की फांस बनता जा रहा है तमाम कोशिशों के बावजूद अपराधों पर नियंत्रण नही हो पा रहा है। वहीं अपराध का कोई गंभीर मामला जब सत्तारूढ़ दल के विधायक से जुड़ा हो तो वो काफी संगीन और काबिले गौर हो जाता है।

बेहद गंभीर बात है कि राजधानी में मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह का प्रयास करने वाली पीड़िता के पिता की आज सुबह अस्पताल में मौत हो गई है। इस बात की पुष्टि खुद उन्नाव जिला अस्पताल के डाक्टर ने की है। डाक्टर ने मीडिया को बताया कि मृतक व्यक्ति को पुलिस ने कल रात पेट में दर्द और उल्टी कि शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिनकी आज सुबह मौत हो गई है।

पीड़िता के पिता की मौत ने मामले को काफी गंभीर और सरकार के लिए दिक्कत पैदा करने वाला बना दिया है। हालांकि  उन्नाव की एसपी ने मामले की जांच में लापरवाही को लेकर 2 पुलिसवालों और 4 कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया है। जबकि वहीं विधायक ने कहा कि साजिशन मेरे ऊपर झूठे आरोप लगाए गए है। आरोपी विधायक ने प्रताड़ित महिला पर ही आरोप लगाते हुए कहा कि महिला के परिवार में किसी मसले को लेकर विवाद चल रहा था और जिसे लेकर पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी।

इस घटना के बाद अखिलेश यादव ने योगी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए ट्वीट किया है । अखिलेश ने लिखा है कि प्रदेश में कहीं कोचिंग की छात्रा की सरेआम गोली मारकर हत्या हो रही है, तो कहीं भाजपा विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली महिला सरकार से निराश होकर मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह कर रही है । क्या यही है ‘एन्काउंटरवाली’ सरकार का खौफ कि अपराधियों की जगह आज नारी आतंकित हो रही है।

गौरतलब है कि पीड़िता ने भाजपा के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप लगाया है । जानकारी के मुताबिक विधायक के भाई और उसके गुर्गों ने पीड़िता के पिता की बर्बर पिटाई की थी । उन्नाव के बांगरमऊ से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई जय सिंह पर आरोप था कि 4 अप्रैल को उसने अपने गुंडों के साथ पीड़ित पप्पू उर्फ सुरेंद्र की बेरहमी से पिटाई की थी । इसकी शिकायत के बावजूद पुलिस ने विधायक का नाम एफआईआर से हटा दिया था। उल्टे पुलिस ने आरोपियों के साथ मिलकर पप्पू को ही मारपीट के जुर्म में जेल भेज दिया था।  पीड़िता ने मीडिया और पुलिस को बताया है कि उसके साथ विधायक और उसके गुर्गों ने गैंगरेप किया है । इसके बाद वह अपने पिता के पास दिल्ली चली गई, लेकिन 4 अप्रैल को लौटी तो उनके साथ मारपीट की गई ।

वहीं एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में पीड़िता ने बीजेपी विधायक पर गंभीर आरोप लगाए है। पीड़िता के मुताबिक, घटना 4 जून 2017 की रात 8 बजे की है। पीड़िता ने बताया कि एक महिला हमें विधायक कुलदीप सेंगर के पास ले गई थी। जो कि BJP नेता हैं। यहां उन्होंने मेरे साथ बलात्कार किया। पीड़िता के मुताबिक, जब मैंने विरोध किया तो नेता ने परिवार वालों को मारने की धमकी दी। इसके बाद जब मैं थाने में गई तो वहां मेरी FIR नहीं लिखी गई।

साथ ही पीड़िता ने बताया कि मैं जून 2017 में सीएम योगी से मिली थी। उन्होंने मुझसे कहा कि बेटा इंसाफ मिलेगा, लेकिन एक साल बीत गया पर अब तक कुछ नहीं हुआ। मैंने हर जगह तहरीर भेजी लेकिन कुछ भी नहीं हुआ। पूरा प्रशासन बीजेपी विधायक के हाथ में है।

इसके अलावा पीड़िता का कहना है कि उसके पिता छोटे बच्चे को देखने के लिए घर आए थे। इसी दौरान विधायक के लोगों ने मेरा पिता को बहुत मारा। पीड़िता ने कहा कि पुलिस पहुंच गई फिर भी पिता को मारा। वो लोग हमारा दरवाजा खोलकर पापा को घसीट ले गए और खूब पीटने के बाद उन्हें अपने घर के बाहर फेंक दिया।

इतना ही नही पीड़िता ने रोते हुए कहा कि वह चार बहन हैं और ऐसे में कहां जाएंगी। उन्हें (विधायक और उसके समर्थकों को) बुला लो वो हमें भी गोली मार दे। उस विधायक ने पूरा थाना खरीद रखा है। वो हमे परेशान करते हैं, हमारे घरवालों को अरेस्ट करवा देते हैं, जबकि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है।

पीड़िता का कहना कि वो सीएम योगी से मिली। उसने सब कुछ सीएम को बताया तो उन्होंने कहा जाओ बेटा पूरी जांच होगी । लेकिन जांच नहीं हुई। पीड़िता ने कहा कि हमारे साथ कैसे-कैसे रेप हुआ, कहां-कहां रखा, हम सब बताते। उसने मुझे उन्नाव में अपने घर में रखा, कानपुर में घर में रखा और सारे आदमियों से रेप कराता रहा।

वहीं इस बाबत उन्नाव की एसपी पुष्पांजलि देवी ने कहा कि मामले की जांच में लापरवाही को लेकर 2 पुलिसवालों और 4 कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है। हम मृतक के पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतेजार कर रहे है। रिपोर्ट आने के बाद मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »