Wednesday , June 19 2024
Breaking News

नोएडा: इमारत ढहने के मामले में तीन गिरफ्तार, 18 के खिलाफ मामला दर्ज, मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश

Share this

ग्रेटर  नोएडा! नोएडा के शाहबेरी गांव में बीती रात छह मंजिला दो इमारतें ढहने से तीन लोगों की मौत होने के सिलसिले में पुलिस में तीन लोगों को गिरफ्तार कर, 18 लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

 ग्रेटर नोएडा वेस्ट के शाहबेरी में मंगलवार रात 4 मंजिला और निर्माणाधीन 6 मंजिला इमारत भरभराकर गिरी. हादसे में तीन लोगों के मौत की खबर है. जानकारी के अनुसार 4 मंजिला इमारत में कुछ परिवार रह रहे थे जबकि निर्माणाधीन इमारत में कई मजदूर मौजूद थे. एनडीआरएफ की टीम ने 3 मजदूरों की मौत की पुष्टि की है. दोनों इमारतों के मलबों में अभी भी काफी लोगों के फंसे होने की आशंका है.

हादसे में अब तक 3 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. इन तीन लोगों में एक बिल्डर और उसके 2 सहयोगी हैं. शाहबेरी हादसे पर डेप्युटी सीएम केपी मौर्य ने कहा कि जिला प्रशासन और NDRF की टीमें रेस्क्यू और सर्च ऑपरेशन में लगी हुई हैं. मलबे में कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है. इस घटना में मारे गये लोगों के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं. राहत-बचाव कार्य जारी है. NDRF की 4 टीमें घटनास्थल पर मौजूद हैं.

राहत-बचाव दल एक-एक लेयर को मलबे से हटाने का काम कर रहा है. इसके लिए खोजी कुत्तों की टीम की मदद ली जा रही है. घटनास्थल को खाली कराने के लिए इमारत के मलबे को दूसरी जगह डंप करने का भी काम किया जा रहा है. मामले को लेकर मेरठ रेंज के आईजी ने कहा कि मलबे को लेयर बाय लेयर हटाने की हमारी प्राथमिकता है ताकि जो जिंदा बचे हैं उन्हें निकाला जा सके. अभी तक 3 मजदूरों का शव मिला है.

उन्होंने बताया कि यह निर्माणाधीन बिल्डिंग है इसलिए फंसे हुए लोगों में भी ज्यादा संख्या मजदूरों के ही होने की संभावना है. स्थानीय लोगों की मानें तो कुछ मजदूर अपने परिवार के साथ निर्माणाधीन बिल्डिंग में रह रहे थे. अभी 24 घंटे तक और राहत और बचाव कार्य चल सकता है.

आईजी ने कहा कि बिल्डर कौन था अभी पता नहीं चला है, लेकिन दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. इधर , रेस्क्यू में जुटी एनडीआरएफ टीम के कमांडेंट ने कहा कि राहत-बचाव के काम में खोजी कुत्तों की मदद ली जा रही है. हादसा इतना खतरनाक है कि किसी के बचने की उम्मीद कम है. खोजी कुत्तों की सूंघने की क्षमता बहुत अधिक होती है और वह जीवित लोगों तक तुरंत पहुंता देते हैं, लेकिन अब ऐसे संकेत नहीं मिल रहे.

सूबे के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना के जांच के आदेश दिये हैं. केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने घटनास्थल पर पहुंचकर राहत कार्य का जायजा लिया. घटना की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी ओपी सिंह से हालात पर बात की. डीजीपी के मुताबिक एनडीआरएफ की टीम, जिला प्रशासन, पुलिस मौके पर मौजूद हैं और मुस्तैदी से राहत कार्य अंजाम दिया जा रहा है.

Share this
Translate »