Monday , May 16 2022
Breaking News

जम्मू: सुंजवां आर्मी कैंप आतंकी हमले में चौथा आतंकी भी ढेर

Share this
  • शहीद होने वाले जवानों की संख्या 5 हो गई
  • सर्चिंग व कॉम्बिंग ऑपरेशन जारी
  • एक से दो और आतंकियों के छिपे होने की आशंका
  • हमले का मास्टरमाइंड आतंकी मसूद अजहर का भाई

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप आतंकी हमले में सुरक्षाबलों ने चौथे आतंकी को भी ढेर कर दिया है। इससे पहले सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया था। हालांकि, इस हमले में शहीद होने वाले जवानों की संख्या 5 हो गई है जबकि एक नागरिक को भी अपनी जान गंवानी पड़ी है।

जानकारी के मुताबिक सेना ने फिलहाल अपना सर्चिंग व कॉम्बिंग ऑपरेशन जारी रखा है क्योंकि अभी भी आर्मी कैंप में एक से दो और आतंकियों के छिपे होने की आशंका जताई जा रही है। जम्मू-कश्मीर में सुंजवां आर्मी कैंप को आतंकियों ने निशाना बनाया है। शनिवार सुबह पांच बजे करीब शुरू हुए इस आतंकी हमले में अब तक दो जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 9 के घायल होने की खबर है। इनमें से 2 की हालत गंभीर बताई जा रही है। हमले में सेना के जवान की बेटी भी घायल हो गई है।

बताया जाता है कि आतंकियों के पास एके-56 राइफल और भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किए गए हैं। आतंकियों के कब्‍जे में कोई बंधक नहीं है। कुल 26 में से 19 फ्लैट खाली करा लिए गए हैं। सेना कैंप के अंदर मौजूद आतंकियों को खदेड़ने के लिए ऑपरेशन तेज हो गया है। QRT की चार टीमों को आर्मी कैंप के अंदर भेजा गया है। ऑपरेशन के लिए पैरा कमांडो को भी तैनात कर दिया गया है। आइएएफ के पैरा कमांडो को उधमपुर और सरसाव से जम्मू बुलाया गया था। गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय पूरी घटना पर नजर बनाए हुए है। इस बीच आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

डिफेंस पीआरओ ने बताया कि जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकियों के लिए सर्च ऑपरेशन जारी है। ये ऑपरेशन तब तक जारी रहेगा, जब तक सभी आतंकी मारे या पकड़े नहीं जाते। उन्‍होंने बताया कि अब तक 3 आतंकी ढेर किए जा चुके हैं। इनके पास से एके56 राइफल और भारी मात्रा में अन्‍य हथियार बरामद हुए हैं। इससे लगता है कि आतंकी किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने के लिए आए थे।

सुंजवां आतंकी हमले का मास्टरमाइंड रउफ असगर है। रउफ मौलाना जैश-ए-मोहम्मद का चीफ आतंकी मसूद अजहर का भाई है। फरवरी के पहले हफ्ते में रउफ ने भाई मौलाना मसूद अजहर के साथ हिजबुल के चीफ सैयद सलाउद्दीन से मिला था और 9 फरवरी को आतंकी अफजल गुरु की बरसी के दिन दोनों ने हमले को अंजाम देने के लिए मदद मांगी थी।

वहीं  मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने उच्च स्तरीय बैठक कर आतंकी हमले से उत्पन्न हुए हालात की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने मुठभेड़ में शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उनकी वीरता की प्रशंसा की और शोक संतप्त परिवारों के साथ सहानुभूति जताई। उन्होंने घायल सैनिकों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की और अधिकारियों को उन्हें सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने का निर्देश दिया।

Share this
Translate »