Monday , October 18 2021
Breaking News

UP इन्वेस्टर्स समिट 2018: प्रधानमंत्री समेत सभी का एक संदेश, उत्तर प्रदेश जल्द ही बनेगा उत्तम प्रदेश

Share this
  • कारोबारियों के कुंभ ‘इन्वेस्टर्स समिट’ का आज बड़ा ही भव्य शुभारम्भ
  • देश के 5000 बड़े उद्योगपति समेत कई देशों के प्रतिनिधि भी शामिल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में हो रहे कारोबारियों के कुंभ ‘इन्वेस्टर्स समिट’ का आज बड़ा ही भव्य शुभारम्भ हुआ जिसमें मुकेश अंबानी, रतन टाटा, गौतम अडानी समेत देश के 5000 बड़े उद्योगपति समेत दुनिया के कई देशों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए हैं।
उत्तर प्रदेश के उद्योग विकास मंत्री सतिश महाना ने समिट का शुभारम्भ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, प्रदेश के राज्यपाल रामनाइक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ सहित इस इन्वेस्टर्स समिट उपस्थित तमाम बड़ी बड़ी हस्तियों का स्वागत किया।

इसके बाद इस समिट को संबोधित करते हुए देश के प्रसिद्ध उद्योगपति मुकेश अंबानी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना उत्तर प्रदेश का सर्वोत्तम प्रदेश बनाने का अवश्य साकार होगा। उन्होंने कहा मोदी के सपनों को मिलकर साकार करेंगे। उन्होंने कहा कि यूपी को योगी आदित्यनाथ जैसा कर्मयोगी सीएम मिला है, यूपी हर हाल में अब विकास में आगे बढ़ेगा। अगर यूपी विकास में आगे बढ़ेगा तो कोई भी ताकत देश को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती है।
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। इस राज्य की प्रगति से देश आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जियो यूपी में अगले तीन साल में 10 हजार करोड़ का इन्वेस्टमेंट करेगी। जियो का यूपी में सबसे अधिक इनवेस्टमेंट है। इस राज्य में 20 हजार करोड का इन्वेस्ट हो जायेगा। जियो का सबसे बड़ा बाजार उत्तर प्रदेश में है।  अगले तीन साल में हम यहां 1 लाख से ज्यादा नौकरियां देंगे। अम्बानी ने कहा कि मैं चाहता हूं कि यूपी का हर नौजवान स्मार्ट नौजवान बने। अगले दो महीनों में यूपी में जियो के दो करोड़ फोन लांच करेंगे। जियो उच्च क्वालिटी का डाटा कम दाम पर देगी। उन्होंने कहा कि गंगा हम सभी की मां है, हमारी कंपनी गंगा को साफ करने के लिए सरकार के साथ काम करना चाहती है।
वहीं इस दौरान अडाणी समुह के अध्यक्ष गौतम अडाणी ने समीट को संबोधित करते हुए कहा कि आने वाले समय में भारत को हम सब विश्व की तीसरी बड़ी आर्थिक ताकत बनेंगे। उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर्स समिट के जरिए राज्य में निवेश लाया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर चौमुखी विकास की कोशिश करेंगे।
जबकि बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा कि अब तक हमने उत्तर प्रदेश में 25 हजार करोड़ का निवेश किया है। हम यूपी में सबसे बड़े प्राइवेट निवेशक हैं। हम यूपी में अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए निवेश कर रहे हैं और हम आगे भी यहां सबसे बड़े निवेशक रहेंगे।
साथ ही महिन्द्रा ग्रुप के आनंद महिंद्रा ने कहा कि यूपी से पुराना नाता है। मां इलाहाबाद से थी. मेरी पढ़ाई लिखाई और लालन-पालन लखनऊ में हुआ। मैं मुसाफिर हूं, हर जगह घूम-घूमकर अब फिर वापस घर आ गया। उत्तर प्रदेश को यूपी की तरह नहीं, दूसरे देश की तरह देखना चाहिए. इसलिए हम यहां पर 25 हज़ार करोड़ निवेश करेंगे।
इसके अलावा टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि टीसीएस लखनऊ में अपनी सर्विसेज जारी रखेगी और लखनऊ में अपनी उपस्थिति को ज्यादा मजबूत करेगी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी क्षेत्रों में चौतरफा विकास के लिए हम सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे।
इसी प्रकार भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की प्रेसीडेंट और अपोलो हॉस्पिटल एंटरप्राइज लिमिटेड की कार्यकारी उपाध्यक्ष शोभना कामिनेनी ने भी यूपी इन्वेस्टर्स समिट को संबोधित करते हुए कहा कि उनका भी पूरा सहयोग प्रदेश को मिलता रहेगा।
साथ ही मॉरीशस के पूर्व प्रधानमंत्री और मौजूदा प्रधानमंत्री के मार्गदर्शक सर अनिरुद्ध जगन्नाथ ने यूपी इन्वेस्टर्स समिट को संबोधित किया। उन्होंने कहा- भारत और मॉरीशस के बीच खून का रिश्ता है। मॉरीशस को इस कार्यक्रम का हिस्सा बनाने के लिए धन्यवाद।
जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ यूपी इन्वेस्टर्स समिट को सीएम योगी आदित्यनाथ संबोधित करते हुए कहा कि यूपी इन्वेस्टर्स समिट 2018 में आप सभी का हार्दिक स्वागत करता हूं। आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश को बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर निकाल एक समृद्ध राज्य बनाए जाने की कड़ी में ही इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया गया है।
योगी ने कहा कि भारत में बनने वाले 99 स्मार्ट सिटी में 10 उत्तर प्रदेश के शहरों को शामिल किया गया है कानपुर, मेरठ, आगरा में मेट्रो का डीपीआर बनकर तैयार हो चुका है। प्रदेश के जनपदों में अधिक से अधिक हस्तशिल्पियों को साथ मिल सके, इसके लिए वन डिस्क्ट्रि, वन प्रोडेक्ट योजना को लांच किया जा चुका है। प्रदेश में हमारी सरकार ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे और बुदेंलखंड एक्सप्रेस वे निर्माण की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया है। इससे प्रदेश में आवागमन की सुविधा और ज्यादा अच्छी हो जाएगी। प्रदेश में हम भारत सरकार के सहयोग से पॉवर फॉर योजना को लागू किया जा रहा है।
देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूपी इन्वेस्टर्स समिट को संबोधित करने से पूर्व डिजिटल क्लीयरेंस सिस्टम का शुभारंभ किया। वहीं अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि योगी सरकार से पहले यूपी में माहौल ठीक नहीं था। लेकिन बहुत ही कम समय में प्रदेश को समृद्धि की तरफ ले गए योगी। उन्होंने कहा कि जब परिवर्तन होता है, तो सामने दिखता है। उत्तर प्रदेश में इतने व्यापक स्तर पर इन्वेस्टर्स समिट होना, इतने निवेशकों और उद्यमियों का एकजुट होना, अपने आप में एक बड़ा परिवर्तन है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, मंत्रिमंडल के उनके सहयोगियों, यहां की ब्यूरोक्रेसी, यहां की पुलिस, और उत्तर प्रदेश की जनता को बधाई देता हूं कि वो अपने उत्तर प्रदेश को इतने कम समय में समृद्धि और विकास के रास्ते पर ले आई है। नकारात्मकता भरे उस माहौल से राज्य को सकारात्मकता की तरफ लाना, हताशा-निराशा अलग करके उम्मीद की किरण जगाने का काम योगी सरकार ने किया है।
उन्होने कहा कि यूपी में औद्योगिक निवेश को रोजगार सृजन से जोड़ते हुए नीतिगत निर्णय लिए जा रहे हैं। योगी जी की सरकार द्वारा अलग-अलग सेक्टरों के हिसाब से अलग-अलग योजना बना कर काम किया जा रहा है। योगी सरकार पूरी गंभीरता के साथ किसानों से किए गए, महिलाओं, नौजवानों से किए गए वायदे पूरे कर रही है। उन्होंने कहा कि मैंने पहले भी कहा है, Potential + Policy + Planning+ Performance से ही Progress आती है. अब यूपी भी Super-Hit Performance देने के लिए तैयार है।
पी की अर्थव्यवस्था में सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योगों- जिन्हें हम MSME कहते हैं, उनका बहुत बड़ा योगदान है। एग्रीकल्चर के बाद MSME सेक्टर में ही रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर बनते हैं। मुझे ये जानकर खुशी है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने इस महत्वपूर्ण तथ्य को ध्यान में रखते हुए एक जिला-एक उत्पाद योजना शुरू की है।
मोदी ने कहा कि खेती से जुड़ी एक बड़ी चुनौती है, खेत से लेकर बाजार तक पहुंचने में बड़ी मात्रा में फसल और फल-सब्जियां खराब हो जाती हैं। फसल-अनाज-फल-सब्जियों की बर्बादी कम करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत पूरी सप्लाई चेन और इंफ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में कृषि उताप्द और कृषि अपशिष्ट से धन की भी असीम संभावनाएं मौजूद हैं। खासकर गन्ने के उत्पादन में यूपी के सबसे आगे रहने की वजह से यहां इथेनॉल प्रॉडक्शन की बहुत संभावनाएं है।
पीएम मोदी ने कहा कि आज इस अवसर पर मैं एक महत्वपूर्ण घोषणा करने जा रहा हूं। इस वर्ष बजट में प्रस्ताव रखा गया था कि देश में दो डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर्स का निर्माण किया जाएगा। इनमें एक यूपी में प्रस्तावित है। बुंदेलखंड के विकास को विशेषतौर पर ध्यान में रखते हुए, अब ये तय किया गया है कि यूपी में डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का विस्तार आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा।
 

 

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »