Sunday , September 19 2021
Breaking News

कमल हासन ने किया राजनीतिक पार्टी ‘मक्कल निधि मय्यम’ का ऐलान

Share this

नई दिल्ली. प्रसिद्ध अभिनेता कमल हासन ने आज मदुरै में अपनी राजनीतिक पार्टी को लांच कर दिया. हासन ने अपनी नई पार्टी का नाम ‘मक्कल निधि मय्यम’ रखा है. पार्टी लॉन्चिंग के मौके पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पार्टी के तमिलनाडु प्रभारी सोमनाथ भारती भी मौजूद रहे.

पार्टी लॉन्चिंग से पहले मंगलवार शाम कमल हासन का मदुरै पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया. कमल हासन ने पार्टी के ऐलान से पहले पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के रामेश्वरम स्थित घर का दौरा किया और कहा, महानता सादगी से आती है और यह घर भी कुछ ऐसा ही है. उन्होंने वहां अब्दुल कलाम के भाई और भाभी से की मुलाक़ात.

हासन इससे पहले राजनीति में आने की झच्छा ज़ाहिर करते हुए कहा था कि वह सरकार की निष्क्रियता के बारे में शिकायत सुन-सुन कर थक चुके हैं और शासन नीति में बदलाव लाना चाहते हैं.

11 फरवरी को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की वार्षिक भारतीय सम्मेलन में अपने मुख्य संबोधन में उन्होंने कहा था, ’21 फरवरी 2018 को मैंने अपना राजनीतिक सफर शुरू किया. मैंने तमिलनाडु के सभी जिलों के एक गांव को दृष्टि और आकांक्षा के साथ गोद लेने की योजना की घोषणा की, ताकि पहले उसे भारत और बाद में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गांव बना सकूं.’

उन्होंने कहा, ‘देश और मेरे राज्य के लिए यह एक नमूना होगा. यह गांव शिक्षा, कौशल व स्वास्थ्य का उच्च स्तर, आर्थिक, पारिस्थितिकी, समाजशास्त्रीय, तकनीक में उच्च होने की इच्छा के साथ योजना के जरिए बनाए जाएंगे.

यह सभी एक स्वस्थ समाज के लिए महत्वपूर्ण चीजें हैं .. मेरा ढृढ़ता से मानना है कि एक सशक्त तमिलनाडु एक मजबूत भारत के लिए शुभ संकेत होगा.’

इस मौके पर अभिनेता ने ट्वीट किया, “साधारण शुरुआत से महानता आ सकती है. वास्तव में यह केवल सरलता से आ सकती है. अपनी यात्रा की शुरुआत महान व्यक्ति के साधारण घर से कर के खुशी हो रही है.” यहां से प्राप्त रपट के अनुसार, “कमल यहां के बाद मंडपम में एक सरकारी स्कूल जाने वाले थे, जहां कलाम ने पढ़ाई की थी, लेकिन जिलाधिकारी ने इसकी अनुमति नहीं दी.”

एक हिंदू संगठन के नेता ने एक टीवी चैनल से कहा कि उनलोगों ने कमल के स्कूल आने का विरोध किया, क्योंकि वह राजनीतिक फायदा उठाना चाहते थे.

बाद में रामेश्वरम में मछुआरा समुदाय के साथ बातचीत में उन्होंने कहा, “यह तमिलनाडु का सबसे महत्वपूर्ण उद्योग है. मैं मछुआरों के विचार सुनने के लिए दोबारा आऊंगा.”

रामेश्वरम में कई ‘नालाई नामाधे (कल हमारा है)’ लिखे हुए कई झंडे सफेद रंग में दिखे, जिस पर काले रंग में तमिलनाडु का नक्शा बना हुआ था.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तमिलनाडु इकाई की नेता तमिलसाई सुंदरराजन ने पत्रकारों से कहा कि ‘ऐसा लगता है कि कमल ने किसी के साथ स्पर्धा करने के लिए अपनी राजनीतिक पार्टी की शुरुआत की है.

उन्होंने कहा, “कोई भी अपनी पार्टी बना सकता है, तमिलनाडु उस स्थिति में नहीं है कि उसे केवल कमल ही बचा सकते हैं.” वहीं दूसरी ओर, दलित नेता थोल थिरुमावलन ने पत्रकारों से कहा कि कमल और रजनीकांत तमिलनाडु में डीएमके को नुकसान पहुंचाने के लिए भाजपा के एजेंट है.

 

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »