Sunday , October 24 2021
Breaking News

क्रिकेट: भारतीय टीम ही नही खुद चहल, बुरी तरह से गए जब दहल

Share this
  • भारतीय इतिहास में पहले और वर्ल्ड क्रिकेट में तीसरे गेंदबाज
  • सबसे खराब रिकॉर्ड हालांकि आयरलैंड के बैरी मैकग्राथी के नाम
  • बैरी मैकग्राथी ने अपने चार ओवर में 69 रन लुटा दिए थे
  • दूसरे नंबर पर साऊथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज क्रिस एबोट

नई दिल्ली। कभी-कभी जब आपका दिन खराब होता है तो आपकी कोई भी कोशिश आपके हालात को संवार नही सकती है ऐसा ही कुछ भारतीय क्रिकेट के नये सितारे यजुवेंद्र चहल के साथ हुआ जिससे भारतीय टीम ही नही खुद चहल भी बुरी तरह से गए जब दहल। क्योंकि साऊथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी-20 जितनी पिटाई भारतीय स्पिनर यजुवेंद्र चहल की में हुई, उतनी किसी और भारतीय गेंदबाज की अब तक नहीं हुई है। चार ओवर में 64 रन दे कर भारतीय इतिहास में पहले और वर्ल्ड क्रिकेट में तीसरे गेंदबाज बन गए हैं। गौरतलब है कि इससे पूर्व टी-20 इंटरनैशनल में वैसे सबसे खराब रिकॉर्ड हालांकि आयरलैंड के बैरी मैकग्राथी के नाम हैं। बैरी ने ग्रेटर नोएडा में खेले गए मैच के दौरान अपने चार ओवर में 69 रन लुटा दिए थे। बैरी के बाद दूसरे नंबर पर साऊथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज क्रिस एबोट हैं जिन्होंने वैस्टइंडीज के खिलाफ जोहानिसबर्ग के मैदान में अपने चार ओवर में 68 रन लुटा दिए थे। इस तरह चहल इस सूची में तीसरे स्थान पर आ गए हैं। हालांकि उनके स्थान पर उन्हें इंगलैंड के जेम्स एंडरसन (चार ओवर में 64 रन) और जयसूर्या (चार ओवर में 64 रन) का भी साथ मिल रहा है। लेकिन चहल ऐसे पहले भारतीय बन गए हैं जिन्होंने टी-20 में अपने निर्धारित कोटे के ओवर में इतने रन लुटाए।
इसी के साथ ही चहल ने चार ओवर में 64 रन देकर अपने ही देश के जोगिंदर शर्मा को भी पछाड़ दिया। चहल से पहले जोगिंदर के नाम पर भारत की ओर से सबसे ज्यादा रन लुटाने का रिकॉर्ड था। जोगिंदर ने 2007 में डरबन के मैदान में इंगलैंड के खिलाफ चार ओवर में 57 रन दिए थे। वहीं 2009 में नागपुर में श्रीलंका के खिलाफ 54 रन देकर युसूफ पठान इस लिस्ट में अब तीसरे स्थान पर आ गए हैं। चौथे नंबर पर मोहम्मद सिराज है। जिन्होंने पिछले ही साल राजकोट के मैदान में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने निर्धारित चार ओवर में 53 रन लुटा दिए थे।

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »