Tuesday , August 9 2022
Breaking News

दोनों ही विधायक आप के, पहले से ही हैं टॉप के

Share this
  • आम आदमी पार्टी भी औरों की तरह ही निकली
  • जानकारों के अनुसार ‘आप’ ने ये क्या कर लिया

नई दिल्ली। देश की सियासत का कचरा साफ करने और उसको साफ सुथरा बनाने की पुरजोर वकालत करने के साथ झाड़ू चुनाव चिन्ह वाली आम आदमी पार्टी   ‘आप’  भी औरों की तरह ही निकली क्योंकि हाल में मुख्य सचिव से मारपीट मामले में जेल भेजे गए विधायकों का पिछला रिकार्ड इस बात की गवाही देता है कि दोनों ही विधायक आप के, पहले से ही हैं टॉप के। जानकारों के अनुसार ‘आप’ ने ये क्या कर लिया, बाहर का कचरा साफ करने की कोशिश में खुद अपने अंदर ही कचरा भर लिया ।

बेहद गौरतलब है कि गिरफ्तार प्रकाश जारवाल और अमानतुल्ला पर पूर्व में भी कई आरोप लगे है जिनके शिकायत पुलिस में दर्ज हैं। चूकि अबकी मामला मुख्य सचिव से जूड़ा था, इसलिए इनकी तत्काल गिरफ्तारी की गई। प्रकाश जरवाल आम आदमी पार्टी में सबसे कम उम्र 25 वर्ष के विधायक हैं । वह देवली विधानसभा सीट से ‘आप’ की टिकट से चुनाव लड़े थे। विधायक चुने जाने के बाद दिल्ली जल बोर्ड में सदस्य के रूप में अहम जिम्मेदारी दी गई थी। प्रकाश जरवाल पिछले साल 21 जुलाई को  महिला के साथ छेड़छाड़ के मामले में जेल भी जा चुके हैं।
इसी प्रकार से विधायक अमानतुल्ला खान शुरू से ही बहुचर्चित और विवादित विधायक रहे हैं।  मेरठ के रहने वाले अमानतुल्ला खान ने जामिया मिलिया इस्लामिया से स्नातक की पढ़ाई की है। उसके बाद वह लोकजन शक्ति पार्टी से जुड़े और फिर ‘आप’ से जुड़ गए। उस दौरान आप की लहर के चलते कांग्रेस के विधायक को ओखला विधानसभा सीट से भारी मतों से हराकर विधायक बने।

गौरतलब है कि 20 जुलाई 2016 में एक महिला ने अमानतुल्ला पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया। जिसमें वह जेल भी गए। उसके बाद 18 अप्रैल 2017 को निगम चुनाव के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ हाथापाई के आरोप में गिरफ्तार हुए थे। तीन मई 2017 को पार्टी की संसदीय समिति की बैठक में आप के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास के साथ अभद्रता की थी जिसपर काफी बवाल हुआ था। दिल्ली सरकार ने अमानतुल्ला को वक्फ बोर्ड का चेयरमैन भी बनाया था। लेकिन उपराज्यपाल द्वारा बोर्ड को भंग कर दिया गया।

Share this
Translate »