Monday , October 18 2021
Breaking News

उत्तराखंड: हर महीने 5 हजार रुपये बेरोजगारी भत्ता सहित केजरीवाल ने किए 6 बड़े वादे

Share this

देहरादून. दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल उत्तराखंड पहुंचे हैं. मिशन उत्तराखंड के तहत केजरीवाल का ये तीसरा दौरा है. आज वो हल्द्वानी पहुंचे हैं और थोड़ी देर में केजरीवाल तिरंगा यात्रा को झंडी दिखाने वाले हैं. इसके साथ ही उन्होंने उत्तराखंड चुनाव को लेकर कई बड़े ऐलान भी किए. उत्तराखंड दौरे पर मीडिया से बातचीत में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उत्तराखंड को बने हुए 21 साल हो गए, इन 21 सालों में इन पार्टियों ने उत्तराखंड की दुर्दशा कर दी. नदियां लूट लीं, पहाड़ लूट लिए.

केजरीवाल ने कहा कि हम 21 सालों की दुर्दशा को 21 महीने में ठीक करने का प्लान बना रहे हैं. सड़क से लेकर रोजगार तक सभी मामलों को ठीक करने का प्लान हम लोगों ने राज्य के लोगों के साथ मिलकर तैयार किया है. केजरीवाल ने अपने पुराने वादे को दोहराते हुए कहा कि यहां सरकार बनने पर 300 यूनिट बिजली मुफ्त देंगे, पुराने बिल माफ करेंगे, 24 घंटे बिजली देंगे.

केजरीवाल ने कहा उत्तराखंड में युवाओं को रोजगार के अवसर नहीं मिल रहे हैं. यहां के युवा में गजब की एनर्जी है, लेकिन पिछले 21 सालों में इन पार्टियों ने युवाओं की भी दुर्दशा कर दी है. ऐसे में युवाओं को घर-गांव छोड़ कर बाहर जाना पड़ा है. यहां की सबसे बड़ी समस्या पलायन बन गया है, उत्तराखंड एक तरह से पलायन प्रदेश बन गया है. हर युवा को रोजगार चाहिए, ये हो सकता है. इसके लिए अच्छी नियत वाली सरकार चाहिए. हम 6 महीने में एक लाख नौकरियां देंगे.

उत्तराखंड के युवाओं को रोजगार देने के लिए केजरीवाल ने यह 6 वादे किए हैं. हर युवा को रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा. जबतक युवा को नौकरी नहीं मिल जाती, तब तक उस परिवार के 1 युवा को 5 हजार महीना रुपये भत्ता दिया जाएगा. 80 फीसदी नौकरियां यहां के लोगों के लिए रिजर्व की जाएगी. 6 महीने में 1 लाख नौकरियां देंगे. दिल्ली की तर्ज पर जॉब पोर्टल बनाएंगे, जहां नौकरी देने वाले और लेने वाले रजिस्टर कर सकेंगे. दिल्ली में इस जॉब पोर्टल पर 10 लाख नौकरियां आईं थीं. रोजगार और पलायन मामलों का मंत्रालय बनाया जाएगा, जो रोजगार के अवसर पैदा करने के काम करेगा और पलायन रोकने का काम करेगा.

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »