Wednesday , July 6 2022
Breaking News

बेचैनी, थकान बनी रहती है तो हो सकती है मैग्नीशियम की कमी

Share this

शरीर में किसी भी तत्व की कमी हो जाए तो उसका असर हमारी बॉडी पर नजर आने लगता है. मैग्नीशियम भी हमारे लिए बेहद जरूरी तत्व है जिसकी कमी अगर हो जाए तो कई तरह की समस्याएं शरीर को घेर लेती हैं. मैग्नीशियम एक ऐसा सूक्ष्म पोषक तत्व है जो कि डिप्रेशन और चिंता पर सीधा प्रभाव डालता है. ऐसे में मैग्नीशियम की कमी को नजरअंदाज करना शरीर में किसी बड़ी समस्या को निमंत्रण देने जैसा होता है. बेचैनी रहना, लगातार थकान रहना और चिंता बनी रहना ऐसे ही कुछ लक्षण है जो कि शरीर में मैग्नीशियम की कमी की ओर इशारा करते हैं. मेडिकलन्यूजटुडे के अनुसार शरीर में मैग्नीशियम की कमी के चलते कई अन्य लक्षण भी नजर आते हैं.

मैग्नीशियम की कमी के लक्षण
– शारीरिक एवं मानसिक थकान
– जी मिचलाना
– उल्टियां होना
– अनिद्रा की स्थिति होना
– शरीर में कमजोरी महसूस होना
– मांसपेशियों में ऐंठन होना
– व्यवहार संबंधी समस्याएं
– बार-बार पलकें झपकना

मैग्नीशियम की कमी की वजह
शरीर में मैग्नीशियम की कमी की कई वजहें हो सकती हैं. डाइट में पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम ना लेना इसकी एक वजह होती है. इसके अलावा रोजाना काफी कैफीनयुक्त पदार्थों का सेवन भी मैग्नीशियम की कमी पैदा करता है. लगातार एंटी-बायोटिक दवाएं लेने से पाचन तंत्र को नुकसान होता है, ऐसे में मैग्नीशियम जैसे उच्च तत्वों को पचाने में मुश्किल होने लगती है. शराब का सेवन भी शरीर में मैग्नीशियम को कम करता है. मैग्नीशियम की शरीर में लगातार कमी बनी रहने पर दिल संबंधी बीमारियों के पैदा होने का खतरा भी बढ़ जाता है. इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर, टाइप2 डायबिटीज और ऑस्टियोपोरोसिस जैसे रोगों के भी शिकार हो सकते हैं.
इन फूड्स से दूर करें मैग्नीशियम की कमी
शरीर में मैग्नीशियम की कमी को दूर करने के लिए अपनी डाइट पर ध्यान देना बेहद जरूरी है. इसके लिए नियमित हरी सब्जियों का सेवन करें. इसके साथ ही बादाम, काजू भी डाइट में शामिल करना चाहिए क्योंकि ये भी मैग्नीशियम का अच्छा स्त्रोत हैं. इसके अलावा सोयाबीन, केला, मछली, तिल, टोफू भी अपने खाने में शामिल करना चाहिए.

Share this
Translate »