Monday , October 3 2022
Breaking News

मजीठिया से माफी मांगकर, केजरीवाल आए सभी के निशाने पर

Share this

नई दिल्ली। बिना जांचे परखे अगर आप कुछ भी कहते हैं तो तय है उसका खामियाजा भी आप ही सहते हैं और अगर ऐसा पहली नही बल्कि हो दूसरी बार तो समझ लें आपने कर लिया अपना काफी कुछ बेकार। ऐसा ही कुछ अब दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के साथ हो रहा है। जिसके चलते वह इस वक्त हर किसी के निशाने पर आ गए हें। ज्ञात हो कि पिछले साल अगस्त में केजरीवाल ने हरियाणा के बीजेपी नेता अवतार सिंह भड़ाना से मानहानि का मामला खत्म करने को लेकर माफी मांगी थी। उन्होंने 2014 में भड़ाना को भ्रष्ट कहा था।

गौरतलब है कि जिस तरह से केजरीवाल ने मानहानि मामले में अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगी है उससे न सिर्फ पार्टी में बगावत खड़ी हो गई है। बल्कि इस मामले को लेकर में वह लगभग सभी के निशाने पर आ गए हैं। बता दे कि गत दिवस दिल्ली के मुख्यमंत्री ने एक मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया से लिखित में माफी मांगी जिसकी जानकारी मजीठिया ने प्रैस कांफ्रैंस दौरान दी थी। इसके बाद से तो जैसे बवंडर ही खड़ा हो गया है।

उनके इस कदम पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने ने कहा  कि केजरीवाल ने ड्रग माफिया के आगे घुटने टेके हैं। उन्होंने ने पंजाब की जनता के साथ धोखा किया हैं। उन्होंने  केजरीवल को बुजदिल करार देते हुए कहा कि इससे पंजाब की जनता सहमत नहीं है। उन्होंने ने पंजाब में आप पार्टी का कत्ल किया हैं। पंजाब के लोग आम आदमी पार्टी को विक्लप के रूप में देखते थे पर आज पंजाब के लोग यह मान रहे है कि केजरीवाल ने अपनी निजी स्वार्थ के लिए जनता के साथ विश्वासघात किया हैं।

वहीं इस  मामले पर आम आदमी पार्टी की पंजाब यूनिट में खासी नाराजगी है। पंजाब आप के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि केजरीवाल ने पार्टी से चर्चा किए बगैर यह कदम उठाया है। वहीं, पार्टी के नाराज नेता कुमार विश्वास ने भी इसे लेकर अरविंद केजरीवाल पर तंज कसा है। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, ‘एकता बांटने में माहिर है, खुद की जड़ काटने में माहिर है, हम क्या उस शख़्स पर थूकें जो खुद, थूक कर चाटने में माहिर है।

जबकि केजरीवाल के इस कदम से नाराज होकर जहां पार्टी प्रधान भगवंत मान ने पार्टी पद से इस्तीफा दे दिया है। मान ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट डाल इसकी जानकारी दी। मान ने लिखा मैं आम आदमी पार्टी की प्रधानगी से इस्तीफा दे रहा हूं लेकिन पंजाब में ड्रग माफिया तथा लोगों के साथ हो रही धक्केशाही के खिलाफ मैं लड़ता रहूंगा। एक सच्चा पंजाबी होने के नाते यह जंग लगातार जारी रहेगी।

इसी प्रकार पार्टी से निष्कासित सुच्चा सिंह छोटेपुर ने भी केजरीवाल को आड़े हाथों लिया। उनका कहना है कि केजरीवाल झुठा है । जिस पार्टी का प्रधान इतना झुठा हो सकता है वो पार्टी कैसी होगी । केजरीवाल व इसके नीचे जो लोग काम कर रहे हैं सब झुठे है । पहले लोगों से करोडो़ं रुपए लगवाए कि मजीठीया तस्कर है। इसके बोर्ड पंजाब में लगवाए और अब खुद माफी मांग रहा है। उन्होंने कहा भगवंत मान ने अब इसतीफे का ऐलान किया है,लेकिन अब क्या फायदा। अब तो समय हाथ से निकल गया है।

इसके अलावा राज्यसभा मैंबर प्रताप सिंह बाजवा ने इस पर हैरानी जताई है। उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट डाल लिखा कि मैं हैरान हूं कि केजरीवाल ने माफी मांगी। मुझे लगता है कि नेता के खिलाफ सीबीआई जांच होनी चाहिए। मैं इस मांग के लिए सभी कांग्रेस विधायकों और सांसदों से अपील करता हूं कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के सामने ये मांग उठाए। चुनाव के पहले  हर चरण में कहा गया था कि सुखबीर और मजीठिया को पंजाब को बर्बाद करने के लिए दंडित किया जाएगा और अगर हम कोई कार्य नहीं करेंगे तो पंजाब के लोग हमें 2019 और 2022 में नहीं छोड़ेंगे। अपराध के लिए किसी को दंडित करना न्याय  है ना कि राजनीतिक प्रतिशोध। हमें हमारी प्रतिबद्धता के लिए खड़े होने की जरूरत है।

काफी अहम और गौर करने की बात है कि मौजूदा समय में आम आदमी पार्टी के नेताओं पर 20 से ज्‍यादा मानहानि के मामले दर्ज हैं, अरविंद केजरीवाल ने अब उन मामलों को निपटाने का फैसला किया है। जिसके तहत जल्द ही केजरीवाल अपने ऊपर चल रहे सभी मानहानि के मामलों को खत्म करने के लिए सभी संबंधित नेताओं से बात करेंगे। ज्ञात हो कि अरुण जेटली, नितिन गडकरी समेत कई नेताओं ने केजरीवाल पर मानहानि के मुकदमे कर रखे हैं। दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक सीएम केजरीवाल को रोजाना अदालत में घंटों बर्बाद करने पड़ रहे हैं जिससे उनका कामकाज प्रभावित हो रहा है इसलिए अब सभी मुकदमे खत्म करने के लिए कोशिश करेंगे।

Share this
Translate »