Monday , September 27 2021
Breaking News

मानहानि केस : सीएम केजरीवाल समेत तीन हुए पास, लेकिन अभी फंसे रहेगें विश्वास

Share this

नई दिल्ली। डीडीसीए मामले में वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा दायर मानहानि मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल समेत अन्यों को बड़ी राहत दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा माफी मांगे जाने और अरुण जेटली द्वारा माफ किए जाने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने मानहानि केस बंद कर दिया है। खबरों के अनुसार दिल्ली हाईकोर्ट ने जेटली का केस बंद कर दिया है और अरुण जेटली ने इसे स्वीकार भी कर लिया है। इसके बाद कोर्ट ने 2 सिविल डिफेमेशन केस में अरुण जेटली द्वारा केजरीवाल पर दायर मानहानि मामलों में डिक्री जारी कर दी। लेकिन वहीं   कोर्ट ने कहा कि आप नेता कुमार विश्वास के खिलाफ मानहानि मामला चलता रहेगा क्योंकि उन्होंने सुलह का प्रस्ताव नहीं दिया है।

ज्ञात हो कि इससे पहले अरुण जेटली और अरविंद केजरीवाल ने कोर्ट में मामले को खत्म करने की याचिका दायर की थी। सोमवार को ही अरुण जेटली की ओर से यह संकेत मिले थे कि उन्‍होंने केजरीवाल को माफी दे दी है। सूत्रों के मुताबिक, केजरीवाल, संजय सिंह और आशुतोष ने एक ज्वाइंट लेटर लिख कर वित्त मंत्री से मानहानि मामले में माफी मांगी है। वहीं जेटली के वकील ने कहा कि जेटली ने केजरीवाल और अन्य आप नेता का माफीनामा मंजूर कर लिया है। हम नागरिक मामलों के लिए दिल्ली हाई कोर्ट और आपराधिक मामलों के लिए पटियाला हाउस कोर्ट गए हैं। नागरिक मामले में हम माफीनामे के आधार पर डिग्री लेने के लिए तैयार हैं।

केजरीवाल इससे पहले इस मामले को लेकर जेटली से माफी मांग चुके हैं। लेकिन जेटली ने उन्हें माफ करने से इनकार कर दिया था। इसके अलावा उन्होंने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल से भी माफी मांगी थी। केजरीवाल ने चिट्ठी लिखकर दोनों नेताओं से माफी मांगी थी।

केजरीवाल ने नितिन गडकरी से कहा था कि ‘मैं अपने शब्दों के लिए खेद जताता हूं। मेरी आपसे कोई निजी दुश्मनी नहीं है । मैंने जो भी कहा है उसके लिए माफी मांगता हूं। इस घटना को मेरे और आपके बीच ही रहने दिया जाए और कोर्ट में चल रही कार्रवाई को बंद कर दिया जाए। ‘ इसके पहले केजरीवाल बिक्रम मजीठिया से भी माफी मांग चुके हैं। केजरीवाल ने मजीठिया से लिखित में माफी मांगी थी।

 

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »