Sunday , July 3 2022
Breaking News

उन्नाव गैंगरेप केस: प्रशासन की अंधेरगर्दी ने ही नौबत ऐसी कर दी

Share this

लखनऊ। एक कहावत है कि अब पछताय होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत। बेहतर तो तब था कि पहले ही जाते चेत। लेकिन ऐसा नही हुआ और आज हालात ऐसे हो गए हैं कि मामला पूरी तरह से गले की फांस बन गया है और सबसे अहम बात यह है कि पीड़िता के साथ तो जो हुआ था वो तो था ही वहीं उक्त पीड़िता का पिता और परिवार का मुखिया अपनी जिंदगी गंवा बैठा। उन्नाव गैंगरेप प्रकरण अब एक तरह से रण बन गया है इस पर प्रदेश सरकार समेत भाजपा की केन्द्र सरकार विपक्ष और लोगों के निशाने पर पहले पर आ चुके थे वहीं अब तो हाई कोर्ट ने भी प्रदेश सरकार से जवाब तलब किया है। हालांकि प्रदेश सरकार द्वारा इस मामले में एसआइटी गठित कर उसे 24 घण्टे के अंदर ही रिपोर्ट सौंपने को कहा है जिसके तहत आज एसआईटी टीम के हैड और एडीजी राजीव कृष्णा पीड़िता के आवास पहुंचे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक, एसआईटी टीम पीड़िता और उसके परिवार से पूछताछ के लिए गांव पहुंच गई है। जहां पीड़िता और उसके परिवार से गुप्त स्थान पर पूछताछ की जा रही है।  बताया जाता है कि उन्नाव गैंगरेप मामले में आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही है। अब सेंगर और पीड़िता के चाचा का ऑडियो लीक हो गया है।  जिसमें बीजेपी विधायक सेंगर और गैंगरेप पीड़ि‍ता के चाचा के बीच बातचीत का ऑडियो सामने आया है। जिसमें विधायक फोन पर धमकी दे रहा है। संभावना है कि आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से भी पूछताछ की जा सकती है। क्योंकि मुख्यमंत्री सीएम योगी ने आज शाम तक पहली रिपोर्ट मांगी है।

उन्नाव के मांखी गांव में गैंगरेप पीड़िता से पूछताछ के दौरान एडीजी लखनऊ रेंज राजीव कृष्ण ने कहा कि हम यहां जांच के लिए आ चुके हैं। मैं शाम तक इस मामले की रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दूंगा। सभी एंगल से जांच हुई है और जो धाराएं लगाई गईं हैं उनकी भी जांच हो रही है। उन्होंने आगे कहा कि एसआईटी की टीम पर कोई दबाव नहीं है। ये स्वतंत्र रूप से काम कर रही है।

वहीं उत्‍तर प्रदेश सरकार ने अब इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठन कर जांच शुरू कर दी है। वहीं समाजवादी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने मामले की जांच के लिए 5 सदस्‍यीय महिला टीम गठित की है। महिलाओं का यह दल आज ही  पीड़िता से मुलाकात करेगा।

वहीं अब इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने संज्ञान लिया है। कोर्ट ने यूपी सरकार को इस मामले की पूरी रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है। गुरुवार को चीफ जस्टिस की अगुवाई में वाली डिवीजन बेंच मामले की सुनवाई करेगी।

बता दें कि वरिष्ठ अधिवक्ता जी एस चतुर्वेदी के पत्र पर कोर्ट ने मामले में संज्ञान लिया है। कोर्ट ने कहा कि अगर रेप पीड़िता के पिता का अन्तिम संस्कार न हुआ हो तो शव को सुरक्षित रखा जाए। लेकिन पीड़िता के पिता का अंतिम संस्कार मंगलवार को हो चुका है।

वहीं इस केस की जांच के लिए गठित एसआईटी की टीम और एडीजी लखनऊ जोन पीड़िता के गांव पहुंच गई हैं। पीड़िता और उसके परिवार को किसी की गुप्त जगह ले जाकर पूछताछ की जा रही है। इस मामले में आरोपी बीजेपी विधायक से भी पूछताछ की जा सकती है।

मंगलवार को कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह सेंगर को हत्यारोपी घोषित कर दिया गया है। अतुल सिंह पर धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इससे पहले उसपर गैर-इरादतन की धारा लगाई गई थी। साथ ही अतुल सिंह का चालान भी काटा गया है। पीड़िता के पिता ने बीजेपी विधायक और उसके परिवार वालों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था।

वहीं सुप्रीम कोर्ट उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई जांच की मांग करने वाली याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई करेगा। उधर, पीड़िता के पिता से मारपीट के आरोप में मंगलवार को विधायक के भाई अतुल सेंगर की गिरफ्तारी भी हुई है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में जो भी दोषी होगा, उसे छोड़ा नहीं जाएगा। इस बीच, गैंगरेप पीड़िता के पिता के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उनके साथ मारपीट की पुष्टि हुई है और उनके शरीर पर चोटों के 14 निशान मिले हैं।

एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर आनंद कुमार ने मंगलवार को कहा, पीड़िता ने अपनी शिकायत में विधायक के अलावा भी कई लोगों का नाम लिया है। इस मामले में एसआईटी का गठन कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि 11 जून 2017 को दर्ज एफआईआर में विधायक का नाम नहीं था, लेकिन 22-08-2017 को विधायक का नाम सामने आया था। इस मामले की भी जांच की जाएगी कि एफआईअार के मामले में उन्नाव पुलिस की रिपोर्ट सही थी या नहीं।

बांगरमऊ से भाजपा विधायक कुलदीप के भाई अतुल सिंह को मंगलवार सुबह उन्नाव में गिरफ्तार कर लिया गया था। अतुल पर पीड़ित युवती के पिता के साथ मारपीट का आरोप है। उन्होंने बताया कि अतुल पर आरोप है कि उसने युवती के पिता के साथ मारपीट की थी और बाद में जेल के अंदर भी उसे बुरी तरह मारा पीटा था जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। हालांकि पुलिस कस्टडी में मौत से साफ इनकार कर रही है। जिसकी पुष्टि पोस्टमार्टम की रिपोर्टम से भी हुई है।

Share this
Translate »