Sunday , May 22 2022
Breaking News

उन्नाव रेप कांड: अंततः BJP MLA को मामला पड़ा भारी, सीबीआई हिरासत में पूछताछ जारी

Share this

लखनऊ । तमाम कवायद और हद पार हो जाने के बाद आज अंततः उन्नाव गैंगरेप केस में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सीबीआई जांच की अनुशंसा किये जाने के बाद अधिकारियों ने इस मामले के मुख्य आरोपी और बांगरमऊ सीट से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को शुक्रवार सुबह हिरासत में लिया है। वहीं CBI की रडार पर यूपी पुलिस के कई बड़े अफसर भी हैं उनसे भी पूछताछ की जा सकती है।

गौरतलब हो कि इसके संकेत हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले ही अपनी प्रतिक्रिया देते हुए दे दिए थे कि जांच सीबीआई को सौंप दी गयी है। मुझे भरोसा है कि विधायक को सीबीआई गिरफ्तार करेगी। मेरी सरकार इस मामले में कोई समझौता नहीं करेगी, चाहे आरोपी कितना ही प्रभावशाली व्यक्ति क्यों ना हो, उसे बख्शा नहीं जायेगा।

मिली जानकारी के मुताबिक कुलदीप सेंगर को उनके लखनऊ स्थित आवास से सुबह करीब 4.30 बजे हिरासत में लिया गया, जिसके बाद सीबीआई के अधिकारी उन्हें कोर्ट में पेश करने की तैयारी में जुट चुके हैं। फिलहाल जांच एजेंसी के अधिकारी भाजपा विधायक से पूछताछ कर रहे है।

बताया जा रहा है कि हिरासत में लिये जाने के बाद कुलदीप सेंगर को राजधानी के हजरतगंज स्थित सीबीआई के ऑफिस लाया गया। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार सीबीआई शुक्रवार सुबह कुलदीप सेंगर को स्थानीय अदालत में पेश कर उन्हें रिमांड पर भेजने की मांग कर सकती है। हालांकि अब तक एजेंसी की ओर से इस मामले को लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया।

इसके साथ ही उन्नाव गैंगरेप के मुख्य आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर को हिरासत में लेने के बाद CBI की 5 सदस्यीय टीम शुक्रवार को उन्नाव पहुंची। यहां पहुंचकर CBI टीम उन्नाव के होटल ग्रीन पैलेस में पीड़िता और उसके परिजनों से पूछताछ कर रही है। वहीं CBI की रडार पर यूपी पुलिस के कई बड़े अफसर भी हैं उनसे भी पूछताछ की जा सकती है।

जानकारी के अनुसार सीबीआई ने उन्नाव गैंगरेप मामले में 3 प्राथमिकियां दर्ज करने के बाद भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को शुक्रवार तड़के पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। सूत्रों ने बताया कि सेंगर से सीबीआई के लखनऊ कार्यालय में पूछताछ की जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि बलात्कार के कथित मामले और उसके बाद हुई घटनाओं के सिलसिले में 3 अलग-अलग प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं।

अपने विधायक पर बलात्कार के आरोप लगने से र्शिमंदगी झेल रही योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य पुलिस द्वारा दर्ज किए गए मामलों को सीबीआई को सौंप दिया। अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से मामले की जांच सीबीआई से कराने के अनुरोध पर कार्मिक मंत्रालय ने गुरुवार रात इस संबंध में अधिसूचना जारी की।

उन्होंने कहा कि अधिसूचना जारी होने के बाद एजेंसी ने कार्रवाई करते हुए बांगरमऊ से भाजपा विधायक सेंगर को उनके आवास से सुबह करीब 5 बजे हिरासत में लिया। नाबालिग पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के समक्ष रविवार आत्मदाह के प्रयास के बाद पूरा मामला सुर्खियों में आया।

जबकि ज्ञात हो कि इससे पहले यूपी पुलिस ने उन्नाव के बांगरमऊ से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ नाबालिग लड़की से कथित रूप से गैंग रेप करने के आरोप में गुरुवार को केस दर्ज किया था। राज्य सरकार ने मामले की सीबीआई जांच का एलान किया। प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने बताया कि सीबीआइ जांच सौंपने का पत्र भेज दिया था।

हालांकि उन्नाव पुलिस ने गुरुवार सुबह सेंगर के खिलाफ आइपीसी की विभिन्न धाराओं और पॉक्सो कानून के तहत माखी थाने में केस दर्ज किया। सवालों के जवाब में अरविंद कुमार और डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि मजिस्ट्रेट के समक्ष दिये बयान में पीड़िता ने विधायक का नाम नहीं लिया था। लेकिन अब पीड़िता और उसके परिजनों ने एसआइटी को बताया कि वे पहले भयवश ऐसा नहीं कर पाये थे।

इतना ही नही  17 वर्षीय पीड़िता ने कहा कि जांच से पहले विधायक को गिरफ्तार करें। अगर विधायक को गिरफ्तार नहीं किया गया। तो वह ‘मेरे चाचा को भी मार देंगे।’ जब वह गिरफ्तार हो जायेंगे, मुझे तभी संतोष होगा। अब सेंगर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। पुलिस विधायक को बचाने का प्रयास कर रही है। आरोपों से इनकार करते हुए डीजीपी ने बताया कि इसी वजह से जांच सीबीआइ को दी गयी. सरकार ने पीड़िता के परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का फैसला किया है।

वहीं जबकि हाइकोर्ट में सुनवाई के दौरान दाखिल सरकार के जवाब में विधायक को फिलहाल सरकार ने क्लीन चिट दे दी है। अदालत में दोनों पक्षों की बहस पूरी हो चुकी है। शुक्रवार को ढाई बजे हाइकोर्ट फैसला सुनायेगी. सरकार के महाधिवक्ता ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘विधायक के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं। हाइकोर्ट ने सरकार से पूछा था कि वह एक घंटे में बताये कि रेप के आरोपी को गिरफ्तार करेंगे या नहीं?

Share this
Translate »