Friday , May 27 2022
Breaking News

पश्चिम बंगाल: पंचायत चुनाव के दौरान हिंसा में 6 की मौत, 50 से ज्यादा घायल

Share this

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में जैसा कि आशंका जताई जा रही थी उसके अनुरूप ही आज पंचायत चुनाव में हो रही वोटिंग के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा हुई जिसमें जहां तकरीबन आधा दर्जन लोगों की मौत हो गई वहीं दर्जनो लोगों को घायल हालत में अस्पतालों में भर्ती कराया गया है वहीं इस हिंसा के लिए राज्य के दो मुख्य राजनीतिक दलों टीएमसी और भाजपा ने एक दूसरे को दोषी ठहराया है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में आज पंचायत चुनाव में हो रही वोटिंग के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा में अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि अलीपुर द्वार में पांच पत्रकार घायल हो गए हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार वो लोग मतदान करने के लिए गए थे लेकिन इस बीच टीएमसी के समर्थकों ने उन पर हमला कर दिया। सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।

वहीं ममता बनर्जी के मंत्री रवींद्र नाथ घोष ने खुद के द्वारा मारपीट किए जाने के मामले में सफाई देते हुए कहा भाजपा का एजेंड बैलेट बॉक्स लेकर भागना चाह रहा था। अधिकारियों ने उसे पकड़ लिया लेकिन लोगों ने कहा भागने दो। मैंने अपने हाथ का उपयोग कर लोगों को दूर किया, टीएमसी किसी पर हमला नहीं करती है। इससे पहले राज्य के कूच बिहार में हुई झड़प में 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए वहीं कई वाहनों को नुकसान पहुंचा है।

ज्ञात हो कि इस चुनाव की मतगणना 17 मई को होगी। 2019 में बोने वाले लोकसभा चुनावों के पहले ये सबसे बड़ा और आखिरी चुनावा है। इस चुनाव के लिए लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी गई थी जिसे बाद आज इसे कड़ी सुरक्षा में शुरू किया गया। इस चुनाव के लिए 1500 सुरक्षकर्मी तैनात किए गए हैं। पंचायत चुनाव को लेकर भारी प्रचार क्या गया था। नामांकन के समय काफी हिंसा हुई थी और विपक्ष ने इसका आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा था। वहीं इन आरोपों के बीच पार्टी का य कहना था कि विपक्ष चुनाव से बचने के लिए इस तरह के आरोप लगा रहा है।

हालांकि इस चुनाव के लिए 1500 सुरक्षकर्मी तैनात किए गए हैं। पंचायत चुनाव को लेकर भारी प्रचार क्या गया था। नामांकन के समय काफी हिंसा हुई थी और विपक्ष ने इसका आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा था। वहीं इन आरोपों के बीच पार्टी का य कहना था कि विपक्ष चुनाव से बचने के लिए इस तरह के आरोप लगा रहा है।

हद की बात ये है कि मुर्शीदाबाद में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं में झड़प इस हद तक बढ़ गई कि बैलट पेपर ही तालाब में फेंक दिए गए। विवाद बढ़ने पर वोटिंग रोक दी गई। उधर, बीरपाड़ा के मदारीहाट में कथित टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बैलट में हेरफेर करने की कोशिश की।

Share this
Translate »