Monday , October 18 2021
Breaking News

पासपोर्ट विवाद में सियासत गरमाई, सुषमा के समर्थन में अब कांग्रेस आई

Share this

नई दिल्ली। राजधानी लखनऊ से पैदा हुए पासपोर्ट विवाद की चर्चा वैसे तो अब हर तरफ हो रही है सबसे अहम और काबिले गौर बात यह है कि जहां इस विवाद पर देश की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज तमाम लोगों समेत खुद अपनों के भी निशाने पर आ गई थीं वहीं विरोधी दल कांग्रेस का उनके समर्थन में आना कहीं आग में घी का काम न कर दे। हालांकि तमाम सियासतों के बीच अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाने वाले पासपोर्ट अफसर को कारवाई का दंश झेलना ही पड़ा हैं।

गौरतलब है कि एक हिंदू-मुस्लिम दंपति को पासपोर्ट जारी करने को लेकर हुए विवाद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्विटर पर ट्रोल किए जाने पर कांग्रेस बखूबी अब उनके सपोर्ट में आई और ट्विटर यूजर्स को जवाब दिया। कांग्रेस ने सुषमा के समर्थन में ट्वीट किया कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि परिस्थिति या कारण क्या है लेकिन किसी के लिए धमकी या आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग नहीं किया जा सकता। सुषमा स्वराज जी हम आपके निर्णय का समर्थन करते हैं, आपकी ही पार्टी के ट्रोलर्स ने आपके खिलाफ मैसेज किए हैं।

ज्ञात हो कि लोगों ने इस दौरान अपनी हदें पार करते हुए सुषमा के लिए गाली-गलौज वाली भाषा का इस्तेमाल किया। हालांकि खुद सुषमा ने भी ट्रोलर को जवाब दिया कि आपने मेरे लिए जो मैसेज किए वो मुझे पंसद आए। सुषमा ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘मैं 17 से 23 जून 2018 के बीच भारत से बाहर थी। मैं नहीं जानती कि मेरी अनुपस्थिति में क्या हुआ। हालांकि , मुझे कुछ ट्वीट से सम्मानित किया गया। मैं इसे आपके साथ साझा कर रही हूं। इसलिए मैंने उन्हें पसंद किया है।’’ पिछले सप्ताह, पासपोर्ट सेवा केंद्र के एक अधिकारी विकास मिश्र का लखनऊ से तब तबादला कर दिया गया था जब एक हिंदू-मुस्लिम दंपति ने आरोप लगाया था कि पासपोर्ट आवेदन के साथ कार्यालय जाने पर उन्होंने उन्हें अपमानित किया।

जबकि इस बाबत मिश्र ने अपने बचाव में कहा था कि वह धर्मनिरपेक्ष हैं और उन्होंने महिला से कहा था कि उनके ‘निकाहनामा’ में उनका नाम शाजिया अनस दिखाया गया है, जिसका उनकी फाइल में अनुमोदन होना चाहिए। उन्होंने मीडिया से कहा ‘‘ दंपति ने इससे इंकार कर दिया। अगर उन्होंने सहमति दी होती तो हम डाटा संशोधन के लिए इसे ‘ए’ सेक्शन को भेज देते। हमें देखना है कि कौन व्यक्ति किस नाम से पासपोर्ट ले रहा है। यह एक दस्तावेजी साक्ष्य है, कैसे हम उसकी अनदेखी कर सकते हैं। मैं धर्मनिरपेक्ष हूं और मैंने खुद अंतर्जातीय विवाह किया है।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »