Monday , September 27 2021
Breaking News

तड़पती मासूम बोली ‘मां मुझे ठीक कर दो या मार डालो’- निर्लज्ज विधायक बोले धन्यवाद तो दें!

Share this

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के मंदसौर में मासूम के साथ हुई दरिंदगी से जहां पूरे देश में उबाल है वहीं दरिंदों के दिए जख़्मों के दर्द से मासूम इस कदर बेहाल है कि अपनी मां से बस ये ही दोहरा रही है कि मां मुझे या तो ठीक कर दो या फिर मार डालो। एहसास कीजिए कि उस मां पर क्या बीत रही होगी और वो मासूम कितने दर्द से जूझ रही होगी। ऐसे में निहायत ही बेरहम और चापलूस किस्म के भाजपा विधायक को उस मां से यह कहते हुए जरा भी लज्जा नही आई कि सांसद जी का धन्यवाद अदा करो। लानत और धिक्कार है उन विधायक पर।

गौरतलब है कि हैवानों की हैवानियत का शिकार हुई आठ साल की मासूम की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है। बच्ची इस कदर सदमे में है कि होश में आने के बाद सबसे पहले उसने अपनी मां से ऐसी बात कह डाली कि जिसे सुन कर एक मां का कलेजा फट जाएगा।

दरअसल दर्द से चूर हुई बच्ची ने मां से कहा कि ‘मां मुझे ठीक कर दो या मार डालो’। मासूम की हालत कुछ ऐसी है कि अगर डॉक्टर उसे इंजेक्शन भी लगाते हैं तो वह दर्द होने पर चीख उठती है। डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची के जख्म भरने में उसे ठीक होने में अभी 15 से 20 दिन लग जाएंगे।

बच्ची की सुरक्षा में दो पुलिसकर्मी अस्पताल में तैनात किए गए हैं। हालांकि बच्ची पल भर के लिए भी मां को नहीं छोड़ रही। बता दें कि बच्ची जब हॉस्पिटल लाई गई, उस समय उसकी हालत इतनी खराब थी कि डॉक्टरों को सात घंटे तक बच्ची का ऑपरेशन करना पड़ा।

इस सबके बीच बेहद ही शर्मनाक और अफसोसनाक पहलू तब सामने आया जब उस बच्ची को देखने पहुंचे भाजपा सांसद के साथ मौजूद निर्लज्ज और संवेदनहीन विधायक बच्ची की मां से बोले कि सांसद जी का धन्यवाद अदा करो।

ज्ञात हो कि शुक्रवार को मंदसौर के बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता भी बच्ची का हालचाल जानने अस्पताल गए थे। वहां उन्होंने डॉक्टरों से बच्ची की तबीयत के बारे में पूछा और बच्ची के परिवार से भी मुलाकात की। इस दौरान सांसद के साथ बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता भी थे। उन्होंने शर्मनाक राजनीति का नमूना पेश करते हुए बच्ची के माता-पिता से कहा कि वो मंदसौर के सांसद जी को धन्यवाद बोलें, क्योंकि वह स्पेशल उनसे ही मिलने अस्पताल आए हैं।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »