Thursday , October 21 2021
Breaking News

हजारीबाग में बुराड़ी जैसी घटना सामने आई, एक साथ छह लोगों ने अपनी जान गंवाई

Share this

नई दिल्ली। अभी दिल्ली के बुराड़ी में एक परिवार में हुई सनसनीखेज घटना को लोग पूरी तरह से भुला भी नही पाये थे कि अब छत्तीसगढ़ के हजारीबग इलाके में भी काफी हद तक वैसी ही घटना सामने आने से लोग सकते मे आ गए हैं। वहीं फौरी तौर पर इसके पीछे वजह आर्थिक दिक्कत बताई जा रही है जिसके चलते पूरे परिवार की ऐसी दशा हुई। लेकिन फिर भी कुछ बातें घटना को रहस्मय बना रही हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली के बुराड़ी इलाके में कुछ दिन पहले हुई दिल दहला देने वाली घटना जैसा ही मामला अब झारखंड के हजारीबाग में देखने को मिली है। दरअसल अब  हजारीबाग में कानी बाजार के खजांची तालाब के निकट सीडीएम शुभम अपार्टमेंट के फ्लैट नम्बर 303 में रहने वाले शहर के जाने माने ड्राई फ्रुट व्यवसायी महावीर प्रसाद माहेश्वरी (70), पत्नी किरण माहेश्वरी (60), बेटा नरेश माहेश्वरी (40), बहू प्रीति माहेश्वरी (35), पोता अमन (10), पोती अनवी (7) की लाश मिली है।

बताया जाता है कि इसमें अमन (10) का गला रेता हुआ था। बेटी अनवी का गला ब्लडप्रेशर नापने वाली मशीन के पाइप से दबाया हुआ था। बुजुर्ग पिता महावीर प्रसाद माहेश्वरी का शव भी फंदे से लटका हुआ था। वहीं उनके पोते का शव पलंग पर पड़ा हुआ था। दूसरे कमरे में बहू प्रीति का शव बेड पर पड़ा था तो सास का शव फंदे से लटका हुआ था। पोती अनवी का शव डाइनिंग रूम में सोफे पर पड़ा हुआ था। उसके मुंह में इथर लगा हुआ रुई का फोहा डाला हुआ था। बेटे नरेश का शव अपार्टमेंट की गेट के पास पड़ा हुआ था।

वहीं इस बाबत पुलिस का कहना है कि घटनास्थल से छह सुसाइड नोट मिले हैं। इससे यह बात तो तय है कि परिवार के लोगों ने आत्महत्या की है। लेकिन बच्चों की हत्या की गयी है। इसका आरोपी नरेश माहेश्वरी है। इसलिए उस पर हत्या का मामला दर्ज होगा।

हालांकि पुलिस को अपार्टमेंट के कमरे से अलग-अलग जगहों पर छह भूरे लिफाफे पर लाल स्याही से लिखे मिले हैं कि अमन को लटका नहीं सकते थे। इसलिए उसकी हत्या की गई। इसके नीचे नीली स्याही से मोटे अक्षरों में सुसाइड नोट लिखा है और उसके नीचे लिखा है। ‘बीमारी+दुकान बंद+दुकानदारों का बकाया न देना+बदनामी+कर्ज= तनाव (टेंशन) = मौत।’

महावीर प्रसाद का बेटा नरेश का शव अपार्टमेंट के नीचे मिला है। आशंका जताई जा रही है कि उसने सबकी मौत के बाद अंत में जान दे दी। लेकिन उसके पैर खरोंच का निशान है और चार तल्ले से कूदने के बाद भी शरीर डैमेज नहीं है। न ही आसपास कहीं कोई खून बरामद हुआ है।

इस मामले में सुसाइड नोट मिलने पर तो कुछ लोग इसे आत्महत्या का रूप दे रहे हैं। हालांकि, इस संबंध में नगर डीएसपी चंदन वत्स का कहना है कि दो बच्चों की हत्या हुई है। इसलिए हत्या का ही मामला दर्ज किया जाएगा। फिलहाल पुलिस मौत की गुत्थी को सुलझाने के लिए जुटी है।

ज्ञात हो कि कुछ दिन पहले ऐसी ही घटना दिल्ली के बुराड़ी इलाके में देखने को मिली थी। यहां एक ही परिवार के 11 सदस्यों के शव घर में मिले थे। इनमें से 10 लोगों के शव फंदे से लटके हुए थे, जबकि एक का शव फर्श पर पड़ा था। दिल्ली पुलिस अभी इस मामले की गुत्थी नहीं सुलझा पाई है। अभी तक की जांच में पुलिस इसे मामले को सामूहिक आत्महत्या का मामला बता रही है।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »