Sunday , May 22 2022
Breaking News

बीसीसीआई भ्रष्टाचार रोधी इकाई के प्रमुख बने अजीत सिंह

Share this

नयी दिल्ली! भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने राजस्थान के पूर्व पुलिस महानिदेशक अजीत सिंह को भ्रष्टाचार रोधी इकाई (एसीयू) का प्रमुख नियुक्त किया. वह दिल्ली पुलिस के पूर्व महानिदेशक नीरज कुमार की जगह लेंगे. नीरज कुमार 31 मई 2018 तक को एसीयू के सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएं देते रहेंगे. लेकिन इसके साथ ही एसीयू प्रमुख की नियुक्ति विवादों में आ गयी है. आरोप है कि विनोद राय की अध्यक्षता वाली प्रशासकों की समिति ने भ्रष्टाचार निरोधक ईकाई के नये प्रमुख अजीत सिंह की नियुक्ति कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी की सहमति के बिना ही मंजूर कर दी. बीसीसीआई के महाप्रबंधक ( प्रशासन ) प्रोफेसर रत्नाकर शेट्टी के कार्यकाल को विस्तार देने के चौधरी के प्रस्ताव को भी दो सदस्यीय समिति ने खारिज कर दिया. समझा जाता है कि सीओए ने कार्यवाहक सचिव चौधरी के सिंह के नियुक्ति पत्र पर हस्ताक्षर करने का इंतजार किया लेकिन उन्होंने हस्ताक्षर से इनकार कर दिया. चौधरी ने इसकी पुष्टि की कि नियुक्ति उनकी मंजूरी के बिना हुई है. उन्होंने कहा , मैंने मीडिया विज्ञप्ति देखी है. मैं सीओए को जवाब देने जा रहा हूं.

कौन हैं अजीत सिंह
अजीत सिंह राजस्थान काडर के 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी है जो पिछले साल 30 नवंबर को राजस्थान के शीर्ष पुलिस अधिकारी के पद से सेवानिवृत हुए थे. बीसीसीआई की विज्ञप्ति के मुताबिक, भारतीय पुलिस सेवा में लगभग 36 साल की सेवाएं देने वाले सिंह को भ्रष्टाचार विरोधी अभियान, खोजी कार्य और पुलिस व्यवस्था के मामले में काफी अनुभव है. वह इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) शुरू होने से पहले मुंबई स्थित बीसीसीआई मुख्यालय में कार्यभार ग्रहण करेंगे. विज्ञप्ति के मुताबिक नीरज कुमार को 31 मई 2018 तक भ्रष्टाचार रोधी इकाई के सलाहकार के रूप में बनाए रखा गया है. बीसीसीआई ने आईपीएल के पिछले सत्र की तरह आगामी सत्र में भी आईसीसी भ्रष्टाचार विरोधी इकाई की सेवाएं जारी रखने का फैसला किया है. उन्होंने कहा, बीसीसीआई और आईसीसी आईपीएल में उच्चतम स्तर के मानढंड बनाए रखने के लिए साथ मिलकर काम करेंगे.

Share this
Translate »