Wednesday , July 6 2022
Breaking News

कोरियाई देशों के बीच अहम फैसला- अब आपस में नहीं लड़ेंगे, मिलकर आगे बढ़ेगें

Share this

सियोल। दशकों पुरानी दुश्मनी के बाद उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के राष्ट्राध्यक्षों ने शुक्रवार को ऐतिहासिक मुलाकात की। यकीनन यह मुलाकात लंबे समय तक याद रखी जाएगी, क्योंकि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ऐसे पहले नेता हैं, जिन्होंने 1950-53 के कोरियन युद्ध के बाद दक्षिण कोरिया की धरती पर कदम रखा है।

ज्ञात हो कि  तकरीबन 65 सालों यानि 1953 के बाद पहली बार को उत्तर कोरियाई शासक, दक्षिण कोरिया की जमीन पर पहुंचा है। दोनों देशों के बीच 6 दशक बाद यह पहली मैत्री वार्ता है जिसे किम जोंग उन ने नए इतिहास की शुरुआत करार दिया है। शुक्रवार को उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई इन से दोनों देशों की सीमा पर मुलाकात की।

इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच पहले चरण में बीच शांति बहाली और परमाणु निस्त्रीकरण को लेकर चर्चा हुई। साथ ही इस बात पर भी सहमति बनी की अब कोई युद्ध नहीं होगा और पिछले युद्ध में एक-दूसरे से बिछड़ चुके लोगों को उनके परिवार से मिलवाया जाएगा।

इसके अलावा दोनों देशों के बीच उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता, दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के नॉर्थ कोरिया के दौरे पर सहमति बनी है। 1953 में दोनों देशों के बीच हुए भयानक युद्ध के बाद अब पहली बार दोस्ती के लिए हाथ बढ़ा है। इस मुलाकात पर पूरी दुनिया की नजरें टिकी हुई हैं वहीं अमेरिका ने इस बैठक का स्वागत किया है।

पैनमुनजोम में किम और मून के हाथ मिलाने के बाद किम जोंग उन को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया जिसके बाद दोनों शीर्ष नेता स्थित पीस हाउस में शीखर वार्ता करेंगे। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति सचिवालय के प्रमुख इम जोंग-सियोक ने बताया कि दोनों नेताओं की बातचीत और समझौते पर हस्ताक्षर होने के बाद संयुक्त बयान जारी किया जाएगा। इसे “पैनमुनजोम घोषणा” कहा जा सकता है। इम ने कहा कि किम के लौटने से पहले शाम को बैंक्वेट और विदाई समारोह का आयोजन किया जाएगा।

दक्षिण कोरिया के अधिकारी इम ने कहा कि शिखर बैठक में अन्य मुद्दों से ज्यादा परमाणु निरस्त्रीकरण और स्थायी शांति पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस बार परमाणु निरस्त्रीकरण के समझौते पर पहुंचना पहले के दो समझौतों से काफी भिन्न होगा। यही शिखर बैठक को ज्यादा मुश्किल बनाता है। अब देखना है कि दोनों नेता किस तरह स्वेच्छा से परमाणु निरस्त्रीकरण समझौते पर पहुंचते हैं।

उत्तर और दक्षिण कोरिया की ऐतिहासिक शिखर बैठक को लेकर दक्षिण कोरिया में उत्सव का माहौल है। शुक्रवार को होने वाली इस बैठक को लाइव देखने के लिए राजधानी सियोल में विशाल टीवी स्क्रीन लगाया है। स्कूलों में छात्रों को इसे देखने के लिए ब्रेक दिया गया है। पूरे दिन कामकाज में ठहराव आने की उम्मीद है।

दक्षिणी शहर ग्वांगजू के एक स्कूल के वाइस प्रिंसिपल पार्क सुंग-इलने कहा, “यह हमारे इतिहास का महत्वपूर्ण क्षण है और इतिहास को महसूस करने का बहुत अच्छा अवसर है।” उन्होंने कहा कि स्कूल छात्रों को टीवी पर इसे देखने की छूट देगा। दोनों कोरिया के नेताओं को हाथ मिलाते देखकर हमारे छात्र एकीकरण के बारे में लाइव शिक्षा पा सकते हैं।

कोरिया मामलों के अमेरिकी विशेषज्ञ विक्टर चा ने बताया कि सियोल में उत्सव का माहौल है। लगभग हर व्यक्ति इसके लिए तैयारी कर रहा है। सियोल शहर के एक अधिकारी ने बताया कि सिटी हॉल के बाहर बड़ा टीवी स्क्रीन लगाया गया है। प्लाजा को फूलों से बने कोरियाई प्रायद्वीप की आकृति से सजाया गया है। ग्वांगजू के एक सिनेमा हॉल ने पर्दे पर बैठक का लाइव प्रसारण मुफ्त में दिखाने की पेशकश की है।

 

Share this
Translate »