Tuesday , August 9 2022
Breaking News

कैराना: सपा-रालोद के साथ लोकदल भी गया मिल, भाजपा की राह हुई अब और भी मुश्किल

Share this

लखनऊ। गोरखपुर और फूलपुर के अहम चुनाव में भाजपा को शिकस्त देने के बाद प्रदेश में विपक्ष के हौसले वैसे ही बुलंद थे वहीं अब कैराना उपचुनाव में भी सपा और रालोद के संयुक्त प्रत्याशी को लोकदल के प्रत्याशी का भी सर्मथन मिल जाने से भाजपा के लिए राह फिर बेहद दुश्वार होती दिख रही है और अगर जानकारों की मानें तो काफी हद तक उसकी हार होती दिख रही है।

गौरतलब है कि जैसे जैसे कैराना लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव की तारीख पास आती जा रही है, वैसे वैसे सियासी गलियारों में सियासत भी तेज होती नजर आ रही है। इसी के तहत कल जहां भाजपा के लिए एक बुरी खबर रही वहीं सपा और रालोद के संयुक्त प्रत्याशी के लिये बेहद अच्छी रही क्योंकि सपा-रालोद की संयुक्त प्रत्याशी तबस्सुम हसन को लोकदल प्रत्याशी कंवर हसन का समर्थन मिल गया। जिसके चलते बीजेपी प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं।

ज्ञात हो कि कंवर हसन ने लोकदल पार्टी से कैराना लोकसभा सीट से दावेदारी पेश की थी। जिसके चलते गठबंधन प्रत्याशी को हार का डर सता रहा था। इस दावेदारी से विपक्षी दलों में भी हलचल मची हुई थी। सभी बातों को मद्देनजर रखते हुए आरएलडी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी की पहल पर कंवर हसन ने गठबंधन प्रत्याशी अर्थात अपनी भाभी तबस्सुम हसन को समर्थन दे दिया।

जानकारों की मानें तो अचानक हुये इस बदलाव और विपक्ष की रणनीति से बीजेपी प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। अब कैराना में दोनों साथ मिलकर चुनाव प्रचार करेंगे और गठबंधन प्रत्याशी के लिए वोट मांगेंगे। क्योंकि एक तरह से अब त्रिगुट यानि सपा और रालोद के साथ लोकदल भी मिलकर एक ही प्रत्याशी के लिए वोट मांगेगे।

Share this
Translate »