Tuesday , May 24 2022
Breaking News

तेज रफ्तार का कहर जारी, फिर नौ जिन्दगियों पर पड़ा भारी

Share this

लखनऊ। प्रदेश में फिर एक बार लापरवाही और रफ्तार के कहर के चलते दो अलग-अलग सड़क हादसों में नौ लोगों की दर्दनराक मौत हो गई वहीं आधा दर्जन  अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। इन हादसों में जहां जनपद कानपुर में एक तेज रफ्तार डम्पर बेकाबू होकर एक झोपड़ी में घुस गया वहीं जनपद उन्नाव स्थित लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर एक तेज रफ्तार कार बेकाबू होकर डिवाइडर से टकरा गई।

मिली जानकारी के मुताबिक जनपद कानपुर महाराजपुर हाइवे पर शुक्रवार की देर रात एक दर्दनाक हादसा हो गया। हाइवे में जा रहा एक डम्पर अनियंत्रित होकर पलट गया और हाइवे किनीरे एक झोपड़ी में जा घुसा। जिससे एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत हो गयी। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतकों के शव को निकाला। वहीं परिवार के अन्य 4 घायलों को इलाज के लिए हैलेट अस्पताल भेजा।

बताया जाता है कि महाराजपुर थाने के पास हाइवे किनारे झोपड़ी में शमी अहमद अपने परिवार के साथ रहते हैं। शुक्रवार की देर रात जब पूरा परिवार सो रहा था कि तभी हाइवे में तेज रफ्तार एक डम्पर अनियंत्रित होकर पलट गया और झोपड़ी में जा घुसा। जिससे शमी के पिता कल्लू, भाई वसीम, बहन शमीमुन, बेटी करीना, सोहाना, बहू यासमीन की मौत हो गयी। वहीं माँ सहरून निशा, भतीजी आलिया, और बेटी बुरी तरह से घायल हो गए। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस के घायलों को इलाज के लिए पहले सरसौल सीएचसी भेजा। जहां से उन्हें कांशीराम ट्रामा सेंटर में भर्ती किया गया। साथ ही मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। घटना के बाद मौके से डम्पर चालक भाग निकला। मामले में एसओ महाराजपुर ने बताया कि डम्पर को कब्जे में ले लिया है और आरोपी चालक की तलाश की जा रही।

 इसी प्रकार जनपद उन्नाव स्थित आगरा एक्सप्रेस-वे पर शनिवार की तड़के कार डिवाइडर से टकराने से मां-बेटे समेत तीन की मौत हो गई। हादसे में कार सवार तीन लोग जख्मी हो गए। घायलों को उपचार के लिए सीएचसी में भर्ती कराया गया है। हालत गंभीर होने पर लखनऊ भेज दिया गया।

मिली जानकारी के मुताबिक पुराना हनुमान मंदिर अलीगंज लखनऊ के महंत गोपाल दास जयपुर से करीब 4 कुंतल की शनिदेव की मूर्ति लेकर  आधा दर्जन लोगों के साथ शुक्रवार की रात लखनऊ के लिए निकले थे। कार जब औरास थाना क्षेत्र से होकर गुजरे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर सई  नदी के किनारे पहुंची तो अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। कार में मैनपुरी निवासी निरुपमा  पत्नी नगाराम और उनका 11 वर्षीय पुत्र तथा बेटियां लिटिल  और खुशी सवार थे।

बताया जाता है कि कार लखनऊ निवासी गजेंद्र उर्फ अनिल यादव  चला रहे थे।  हादसे में कार पर सवार निरुपमा उनके बेटे और कार चलाक गजेंद्र की मौके पर मौत हो गई । जबकि महंत और निरुपमा की दोनों बेटियां घायल हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को औरास पीएचसी में भर्ती करा शव पोस्टमार्टम को भेज दिए। घायलों को पीएचसी से गंभीर हालत में लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया है।

Share this
Translate »