Tuesday , May 17 2022
Breaking News

जो किसान 70 साल तक रहा बेहाल, मोदी सरकार ने किया उसका पूरा ख़्याल: शाह

Share this

नई दिल्ली। भाजपा ने अब अपने तरकश में बचा कर रखे सियासी तीरों का बखूबी इस्तेमाल शुरू कर दिया है जिसकी बानगी है कि आज जहां पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दो दिवसीय दौरे पर उत्तर प्रदेश पहुंचे वहीं केन्द्र की मोदी सरकार ने की फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) बढा दिया।

गौरतलब है कि पूर्वांचल के दौरे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह ने खरीफ की फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने के फैसले को ऐतिहासिक फैसला बताया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार हमेशा किसानों के समर्थन में ही फैसला लेती है। शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने किसानों की 70 साल पुरानी मांग को पूरा किया है।

इसके साथ ही शाह ने कहा कि इस फैसले से देश के गांवों को ताकत मिलेगी और लोग किसानी करते हुए सुख से रह सकेंगे। उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा,‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी कैबिनेट के सा​थियों को साधुवाद देना चाहता हूं । किसान हित में बड़ा फैसला किया गया है। इससे किसानों की बहुत सी समस्याओं का अंत होगा।’’

वहीं उन्होंने कहा कि कुछ फसलों में लगभग 50 प्रतिशत से अधिक फायदे की संभावना है। उन्होंने कहा कि जब से मोदी सरकार बनी, तब से एक के बाद एक किसान हित के फैसले लिये गये। नीम कोटेड यूरिया लाकर यूरिया की कालाबाजारी रोकी गई। अब देश में कहीं पर भी यूरिया की किल्लत नहीं है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लाये । प्रधानमंत्री सिंचाई योजना आयी। शाह ने किसानों के लिए मोदी सरकार द्वारा लिये गये फैसले गिनाये।

इसके अलावा भाजपा अध्यक्ष अन्य किसी मसले पर वह कुछ नहीं बोले और संवाददाताओं की ओर से पूछे गये सवालों का जवाब भी नहीं दिया। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय मौजूद थे। भाजपा अध्यक्ष ने मां विंध्यवासिनी धाम में पूजा अर्चना भी की।

ज्ञात हो कि शाह ‘मिशन-2019’ को ध्यान में रखते हुए संगठन को मजबूती देने और चुनावी रणनीति तैयार करने के मकसद से यहां पहुंचे। वह वाराणसी भी जाएंगे। उन्होंने काशी क्षेत्र, अवध और गोरक्ष क्षेत्र के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। भाजपा के स्थानीय कार्यकर्ताओं को इस कार्यक्रम से दूर रखा गया था।

हालांकि इसके साथ ही बैठक में पूर्णकालिक कार्यकर्ताओं और विस्तारकों को ही मंत्रणा के लिए शामिल किया गया।  जबकि योगी और शाह वाराणसी पहुंचकर बड़ा लालपुर स्थित दिन दयाल हस्तकला संकुल में लगभग 2 हजार आईटी सेल के वॉलंटियर्स के साथ बैठक करने भी पहुंचे।

Share this
Translate »