Monday , November 29 2021
Breaking News

मोदी के घर-ऑफिस में ED का छापा, सीज हुई दिल्ली, मुंबई और सूरत की प्रॉपर्टी

Share this

नई दिल्ली। परावर्तन निदेशालय(ईडी) ने पंजाब नेशनल बैंक से धोखाधड़ी के आरोप में आभूषण कारोबारी नीरव मोदी के शोरूम और ऑफिस में छापा मारा है। जिस ऑफिस और शोरूम में छापा पड़ा है वो मुंबई के काला घोड़ा में स्थित है।

वहीं इसके साथ ही ईडी ने नीरव मोदी के सूरत में तीन जगहों पर, मुंबई में चार, और दिल्ली में दो जगह पर छापेमारे की है। अरबपति आभूषण कारोबारी नीरव मोदी ने कथित रूप से बैंक की मुंबई शाखा से धोखाधड़ी वाला गारंटी पत्र हासिल कर अन्य भारतीय कर्जदाताओं से विदेशी कर्ज हासिल किया।

गौरतलब है कि सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक पंजाब नेशनल बैंक ने करीब 1.77 अरब डॉलर का फर्जीवाड़ा पकड़ा है। पंजाब नेशनल बैंक ने मुंबई की एक शाखा से धोखाधड़ी वाले लेनदेन न को पकड़ा है जो कुछ चुने हुए अकाउंट होल्डर को फायदा पहुंचा रहा था। बैंक ने बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज को इसकी जानकारी दी है।

बेहद गंभीर बात है कि दस दिन से भी कम के समय में यह बैंक धोखाधड़ी का दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले पांच फरवरी को सीबीआई ने अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और एक व्यापारिक भागीदार के खिलाफ वर्ष 2017 में पीएनबी के साथ 280.70 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

हालांकि पीएनबी ने बयान में कहा कि उसकी मुंबई की एक शाखा में कुछ धोखाधड़ी वाले अनधिकृत लेनदेन का पता चला है। वसूली के लिए यह मामला विधि प्रवर्तन एजेंसियों को भेज दिया गया है। ये लेनदेन कुछ चुनिंदा खाताधारकों को लाभ पहुंचाने वाले हैं और इसमें उनकी भी सांठगाठ है।

बैंक ने कहा कि इन लेनदेन के आधार पर अन्य बैंकों ने संभवत: कुछ ग्राहकों को विदेशों में ऋण दिया है। इस मामले को पहले ही विधि प्रवर्तन एजेंसियों को भेज दिया गया है, जिससे दोषियों के खिलाफ कानून के हिसाब से कार्रवाई हो सके।

साथ ही बैंक ने यह भी कहा कि वह स्वच्छ और पारदर्शी बैंकिंग को लेकर प्रतिबद्ध है। दस दिन से भी कम के समय में यह बैंक धोखाधड़ी का दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले पांच फरवरी को सीबीआई ने अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और एक व्यापारिक भागीदार के खिलाफ वर्ष 2017 में पीएनबी के साथ 280.70 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

ज्ञात हो कि सीबीआई ने पीएनबी की शिकायत पर यह कार्रवाई की है। इसमें कहा गया है कि मोदी, उनके भाई निशाल, पत्नी एमी और मेहुल चिनूभाई चौकसी ने बैंक अधिकारियों के साथ साजिश में बैंक के साथ धोखाधड़ी की और उसके गलत तरीके से नुकसान पहुंचाया।

इसके अलावा बॉबे स्टॉक एक्सचेंज बीएसई को 1771. 69 मिलियन डॉलर से ज्यादा ‘धोखाधड़ी एवं अनधिकृत’ लेन-देन के बारे में सूचित किया है। बीएसई को दी गई जानकारी में पीएनबी ने कहा कि मामले की जांच और अपराधियों पर मामला दर्ज करने के लिए इसे कानूनी एजेंसियों के हवाले किया गया है।

जबकि पीएनबी ने इस मामले में 10 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। बैंकिंग सचिव राजीव कुमार ने कहा कि सरकार इस मामले पर नजर रखे हुए है। यदि जरूरत पड़ी तो फॉरेंसिक ऑडिट के आदेश दिए जा सकते हैं। फाइनेंशियल सर्विसेज के सेक्रेटरी लोक रंजन का कहना है, मैं नहीं मानता कि यह मामला कंट्रोल के बाहर है और इस पर इतना चिंतित होने की जरूरत है।

गौरतलब है कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के मुताबिक पंजाब नेशनल बैंक का कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन लगभग 36,566 करोड़ रुपए है। लगभग 4.5 लाख करोड़ रुपए का बाजार में कर्ज दे रखा है। बैंक में फर्जीवाड़े के खबर के बात बैंक के शेयर मूल्य में आई गिरावट से निवेशकों को एक दिन में लगभग 3,000 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

वहीं इस धोखाधड़ी को लेकर चिंतित वित्त मंत्रालय ने सभी बैंकों को इस मामले से जुड़ी या इस प्रकार की घटनाओं के संबंध में इस सप्ताह के अंत तक रिपोर्ट देने को कहा है। चूंकि मामले में एक से अधिक बैंक शामिल हैं, अत: वित्तीय सेवा विभाग ने सभी बैंकों से धोखाधड़ी को लेकर जल्दी स्थिति रिपोर्ट देने को कहा है।

 

Share this
Translate »