Monday , November 29 2021
Breaking News

PNB घोटालाः आरोपियों का अहम बयान, कमीशन खाते थे अफसरान

Share this
  • इस मामले से जुड़े सभी बैंक अधिकारियों को कमीशन मिलता था
  • एलओयू के अमाउंट के आधार पर तय था रिश्वत का प्रतिशत भी

नई दिल्ली। पीएनबी घोटाले में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार आोरपियों ने पुछताछ के दौरान कई बड़े और अहम खुलासे किए है। सीबीआई सूत्रों के अनुसार, गिरफ्तार बैंक अफसरों ने यह बताया है कि प्रत्येक लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LoU) जारी करने के बदले इस मामले से जुड़े सभी बैंक अधिकारियों को कमीशन मिलता था। एलओयू के अमाउंट के आधार पर रिश्वत का प्रतिशत भी बखूबी तय था।
गौरतलब है कि पीएनबी घोटाले में कल सीबीआई ने पहली गिरफ्तारी करते हुए 3 आरोपियों गोकुलनाथ शेट्टी, मनोज करात, हेमंत भट् को अरेस्ट कर विशेष अदालत में पेश किया गया था जहां तीनों की 14 दिन के लिए CBI रिमांड पर भेज दिया है। अब 3 मार्च तक CBI इन तीनों से वो तमाम राज उगलवाने की कोशिश करेगी जिसके चलते इतना बड़ा घोटाला संभव हो सका।

वहीं सीबीआई का यह भी कहना है कि इस घोटाले में गिरफ्तार किए गए आरोपी जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं।  दूसरी ओर, ईडी ने इस मामले में रायपुर में गीतांजलि स्‍टोर पर छापेमरी की है।  बैंकिंग इतिहास में इस सबसे बड़े घोटाले में नीरव मोदी के बाद सबसे ज्यादा सुर्खियों में गोकुलनाथ शेट्टी का ही नाम है। शेट्टी पिछले साल मई में ही पंजाब नेशनल बैंक से डिप्टी मैनेजर के पद से रिटायर हुए थे।
जबकि जांच में पता चला कि मार्च 2010 से बैंक के फॉरेक्स डिपार्टमेंट में काम कर रहे डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने विंडो ऑपरेटर मनोज खरात नाम के साथ मिलकर नीरव की कंपनियों को फर्जी तरीके से एलओयू (लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग) दिया।

इस मामले में बड़े ही शातिराना तरीके से काम किया गया ताकि यह हेराफेरी पकड़ में न आए, इसीलिए बैंक के रिकॉर्ड में इसकी एंट्री भी नहीं की गई थी। बाद में इन्हीं जाली एलओयू के आधार पर एक्सिस और इलाहाबाद जैसे बैंकों की विदेशी शाखाओं ने बैंक को डॉलर में लोन दिए थे। इन लोन का इस्तेमाल बैंक के नोस्ट्रो अकाउंट्स की फंडिंग के लिए किया गया था। इन अकाउंट्स से फंड को विदेश में कुछ फर्मों के पास भेजा गया, जो नीरव मोदी की कंपनी से ताल्लुक रखती थीं।

 

Share this
Translate »